Coronavirus: प्रदूषण के कारण पूरी दुनिया में 15 फीसदी बढ़ी कोरोना से मौत

कार्डियोवैस्कुलर रिसर्च में मंगलवार को प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक दुनिया भर में ज्यादा समय तक वायु प्रदूषण के संपर्क में रहने के कारण कोविड-19 से 15 फीसदी ज्यादा मौत हुई है।

0
2000

लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने के कारण कोरोना से मौत का खतरा काफी बढ़ गया है। एक अध्ययन के मुताबिक पूरी दुनिया में वायु प्रदूषण के कारण कोरोना 15 फीसदी ज्यादा मौत हुई है।

कार्डियोवैस्कुलर रिसर्च में मंगलवार को प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक दुनिया भर में ज्यादा समय तक वायु प्रदूषण के संपर्क में रहने के कारण कोविड-19 से 15 फीसदी ज्यादा मौत हुई है। यूरोप में यह अनुपात करीब 19 फीसदी है, वहीं, उत्तरी अमेरिका में यह 17 फीसदी और पूर्वी एशिया में यह आंकड़ा 27 फीसदी है। शोधकर्ताओं के अनुसार कोरोना से मौत को टाला जा सकता था, यदि लोगों को बिना जीवाश्म और अन्य मानव जनित ईंधन संबंधी प्रदूषण के संपर्क में कम से कम रखा जाता।

अनुमान के मुताबिक प्रदूषण के कारण चेकोस्लोवाकिया में सबसे ज्यादा कोराना मौत 29 फीसदी हुई। वहीं चीन में 27 फीसदी, जर्मनी में 26 फीसदी, स्विट्जरलैंड में 22 फीसदी, बेल्जियम में 21 फीसदी, नीदरलैंड्स में 19 फीसदी, फ्रांस में 18 फीसदी, जर्मनी में 16 फीसदी, स्वीडन में 16 फीसदी, इटली में 15 फीसदी, ब्रिटेन में 14 फीसदी, ब्राजील में 12 फीसदी, पुर्तगाल में 11 फीसदी, जबकि न्यूजीलैंड में प्रदूषण के कारण सबसे कम 1 फीसदी कोरोना मौत हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here