1984 सिख दंगे पर आया कोर्ट का फैसला, एक को फांसी और दूसरे को उम्रकैद

0
228

दिल्ली (Delhi) की पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) ने 1984 के सिख विरोधी (1984 Sikh Riots) दंगों से जुड़े एक दोहरे हत्याकांड में फैसला सुनाया है। इस दंगे में दोनों दोषी को सजा मिली है। एक को फांसी और दूसरे को उम्रकैद की सजा मिली है। कोर्ट ने गुरुवार को दोषियों को सजा सुनाने पर फैसला सुरक्षित रख लिया था। एक नवंबर 1984 को दक्षिणी दिल्ली (South Delhi) के महिपालपुर (Mahipalpur) में हरदेव सिंह (Hardev Singh) और अवतार सिंह (Avtar Singh) की हत्या कर दी गई थी।

गत बुधवार को महिपालपुर निवासी नरेश सहरावत और यशपाल सिंह को कोर्ट ने दोषी करार दिया था। कोर्ट में दोनों पक्षों की बहस सुनी जा चुकी है। अभियोजन पक्ष ने जहां इस केस को दुर्लभ में अति दुर्लभ बताते हुए दोषियों को फांसी देने की मांग की थी। वहीं, बचाव पक्ष ने दोषियों की उम्र और बीमारी पर दया करते हुए कम सजा देने की अपील की थी।

कोर्ट के बाहर सिख समुदाय से जुड़े  लोगाें की भीड़ लग गई है। वहां काफी संख्‍या में महिलाएं भी मौजूद हैं। कोर्ट ने महिपालपुर निवासी हरदेव सिंह व अवतार सिंह की हत्‍या के मामले में सेहरावत और यशपाल को दोषी करार दे दिया था। इन दोनों लोगों की हत्‍या एक नवंबर 1984 को हुई थी। दोषियों को हत्‍या, हत्‍या की कोशिश घातक हथियार से चोट पहुंचाने सहित कई मामले में दोषी करार दिया था।

दंगा पीड़ितों की ओर से बहस के लिए मौजूद वरिष्ठ वकील एचएस फूलका ने बताया कि यह नरसंहार था। इस दंगे में तीन हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। उन्होंने बताया कि आहूजा कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार राजधानी में ही 2733 सिख मारे गए थे। इस नरसंहार की देश सहित विदेशों में भी कड़ी निंदा हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here