विदेश मंत्री के समक्ष दुबई में फंसे 20 हजार पंजाबी श्रमिकों का उठा मुद्दा, कंपनियां नहीं दे रहीं पासपोर्ट।

सुखबीर बादल ने विदेश मंत्री से आग्रह किया कि दुबई में ज्यादातर कामगारों ने भारत वापसी के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था, लेकिन पासपोर्ट न होने के कारण वापस नहीं लौट सके।

0
3757

Dubai: शिरोमणि अकाली दल (SAD) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Badal) ने दुबई में 20 हजार पंजाबी श्रमिकों का मुद्दा विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के समक्ष मुद्दा उठाया है। इन श्रमिकों के पासपोर्ट भी उनकी कंपनियों के पास जमा हैं। इन निजी कंपनियों ने श्रमिकों को नौकरी से बाहर कर दिया, लेकिन उनके पासपोर्ट भी वापस नहीं किए जा रहे। इसकी वजह से यह श्रमिक वापस नहीं आ पा रहे हैं।

सुखबीर बादल ने विदेश मंत्री (Foreign Minister) से आग्रह किया कि वे दुबई (Dubai) में भारतीय दूतावास को निर्देश दें कि वे इस मुद्दे को अमीरात के अधिकारियों के समक्ष उठाएं, ताकि कामगारों के पासपोर्ट उन्हें वापस मिल सकें। उन्होंने कहा कि ज्यादातर कामगारों ने भारत वापसी के लिए ऑनलाइन आवेदन भी किया था, लेकिन पासपोर्ट न होने के कारण वापस नहीं लौट सके। उन्होंने कहा कि उन्हें कई युवाओं से संदेश मिला था कि वे अपने हवाई टिकटों का भुगतान करने के लिए भी तैयार हैं, लेकिन कंपनियां पासपोर्ट वापस नहीं कर रही हैं। इन्होंने केंद्र से तत्काल इस मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है।

सुखबीर ने विदेश मंत्री से मुलाकात के दौरान कहा कि कुछ श्रमिक हवाई मार्ग से वापस लौट सकते हैं, जबकि हजारों कामगार ऐसे भी हैं जिन्होंने अपने बचत किए पैसे खर्च चुके हैं और वापसी की टिकट खरीदने की स्थिति में भी नहीं हैं। ऐसे इन्हें वापस घर लाने के लिए नौ सेना के जहाजों को भी भेजा जा सकता है।

सुखबीर ने कहा कि ऐसी शिकायतें भी मिली हैं कि कई कंपनियों ने कामगारों के वेतन भी नहीं दिया है। उन्होंने आग्रह किया कि इस संबध में हेल्पलाइन खोली जानी चाहिए, ताकि कामगारों को उनके मालिकों से पासपोर्ट वापस मिल सकें तथा वह वतन वापस आ सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here