2014 से पहले जिन डिफॉल्टरों को दिया गया था लोन उन पर कार्रवाई शुरू-PM Modi

0
159

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) का उद्घाटन करने के बाद कांग्रेस पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि सरकार बनने के कुछ समय बाद ही अहसास हो गया था कि कांग्रेस देश की अर्थव्यवस्था को एक लैंडमाइन पर बैठाकर गई है. पीएम मोदी ने कहा कि 12 बड़े डिफाल्टर जिनको 2014 के पहले लोन दिया था, जिनका एनपीए करीब पौने 2 लाख करोड़ रुपये हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई और उसके नतीजे आज दिख भी रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा, ‘जिनको लग रहा था कि नामदार परिवार की सहभागिता और मेहरबानी से उनको मिले लाखों-करोड़ रुपए हमेशा-हमेशा के लिए उनके पास रहेंगे, हमेशा इनकमिंग ही रहेगी, अब उनके खाते से आउटगोइंग भी शुरू हुई है.

पीएम मोदी ने कहा कि सरकार पुरानी व्यवस्थाओं को रिफॉर्म कर उन्हें ट्रान्सफॉर्म कर रही है. पत्र की जगह भले ईमेल ने ले ली हो लेकिन लक्ष्य एक ही है, जिस टेक्नोलॉजी ने पोस्ट ऑफिस को चुनौती दी, उसी टेक्नोलॉजी को आधार बनाकर हम इस चुनौती को अवसर में बदलने की तरफ आगे बढ़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि 1 सितम्बर 2018 देश के इतिहास में एक नई और अभूतपूर्व व्यवस्था की शुरुआत होने के नाते याद किया जाएगा. आज इस पहल से हम बैंक को गांव और गरीब के दरवाजे पर लेकर जाने का काम आरंभ कर रहे हैं. देश की अर्थव्यवस्था में और सामाजिक व्यवस्था में बड़ा परिवर्तन लाने वाला है. देश के 650 जिलों और 3250 डाकघरों में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की सुविधा हो रही है. हमारी सरकार पुरानी व्यवस्थाओं को अपने हाल पर छोड़ने वाली नहीं है बल्कि रिफॉर्म, पर्फाम और ट्रांसफॉर्म करने का काम कर रही है.

पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के बाद से लेकर साल 2008 तक देश के बैंकों ने 18 लाख करोड़ रुपए ही लोन पर दिये थे, लेकिन 2008 के बाद के 6 वर्षों में ये राशि बढ़कर 52 लाख करोड़ रुपए हो गई, यानि जितना लोन बैंकों ने आजादी के बाद दिया था उसका दोगुना लोन पिछली सरकार के 6 साल में बांट दिया गया. 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here