कैबिनेट में संशोधन की मंजूरी के बाद आज राज्यसभा में पेश होगा तीन तलाक बिल

0
372

तीन तलाक विधेयक आज राज्यसभा में पेश होगी। बीजेपी ने राज्यसभा में सांसदों को उपस्थित रहने के लिए व्हिप जारी किया है। इससे पहले लंबे समय से तीन तलाक के खिलाफ लड़ रही केंद्र सरकार अब इस पर थोड़ी नरम होती नजर आ रही है। कैबिनेट ने तीन तलाक बिल में संशोधन को मंजूरी दे दी। यानी अब इसमें बदलाव हो सकता है। इस संशोधन के तहत तीन तलाक अब भी गैर जमानती ही रहेगा। लेकिन संशोधन के हिसाब से मजिस्ट्रेट इस केस में बेल दे सकता है। यानी अब सिर्फ मजिस्ट्रेट के पास ही बेल देने का अधिकार होगा।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक घोषित किया है, जिसके बाद केंद्र सरकार ने इस मसले पर लोक‍सभा में एक विधेयक पारित किया। इस विधेयक के तहत तीन तलाक देने वालों के लिए जेल की सजा का प्रावधान किया गया है और इसे गैर-जमानती बनाया गया था।
मुस्लिम महिला विधेयक 2017 नाम से यह विधेयक बीते दिसंबर में लोकसभा से पारित हुआ था, जिसके तहत तीन तलाक को अपराध घोषित किया गया और इसके लिए तीन साल तक की सजा और जुर्माने का प्रावधान किया गया।

अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा था कि अगर सरकार तीन तलाक विरोधी विधेयक में महिला के लिए गुजारा भत्ता का प्रावधान करती है तो कांग्रेस इस विधेयक का समर्थन जरूर करेगी। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि सरकार महिला आरक्षण विधेयक के लिए तीन तलाक़ विधेयक की शर्त रखकर ‘सौदेबाजी’ कर रही है।

सुष्मिता देव ने कहा, हम तीन तलाक विरोधी विधेयक के खिलाफ में कभी नहीं थे। लेकिन विधेयक का मौजूदा स्वरूप मुस्लिम महिलाओं को नुकसान पहुंचाने वाला है। इसमें पीड़ित महिला के लिए गुजारा भत्ता का प्रावधान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिला के गुजारा भत्ता के लिए मैंने लोकसभा में संशोधन पेश किया था लेकिन वह पारित नहीं हो सका। अगर यह संशोधन स्वीकार कर लिया जाता है तो हम इस विधेयक का बिल्कुल समर्थन करेंगे।

निरंजन कुमार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here