लगता है ये सबसे ज़्यादा लोगों का रोज़गार छीनने का विश्व रिकार्ड बना कर ही जाएंगे – अखिलेश यादव

नकदी संकट से जूझ रही Jet Airways को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है.

0
465

नकदी संकट से जूझ रही निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज (Jet Airways) को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) पर निशाना साधा है. अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने Tweet करते हुए लिखा है कि लगता है ये प्रधान जी अपने कार्यकाल में सबसे ज़्यादा लोगों का रोज़गार छीनने का विश्व रिकार्ड बना कर ही हमेशा के लिए जाएंगे. बता दें, जेट एयरवेज के ऋणदाता एयरलाइन के पुनरोद्धार के लिए काम कर रहे हैं, लेकिन अभी कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है.

अखिलेश यादव ने Tweet किया है, ‘‘विकास’ पूछ रहा है: प्रधान जी बहुत ‘उड़ान-उड़ान’ कर रहे थे, तो फिर जेट एयरवेज को बचाने के लिए उसके हज़ारों कर्मचारियों की आवाज़ क्यों नहीं सुन रहे हैं? लगता है ये प्रधान जी अपने कार्यकाल में सबसे ज़्यादा लोगों का रोज़गार छीनने का विश्व रिकार्ड बना कर ही हमेशा के लिए जाएंगे.’

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक सुनील मेहता ने मंगलवार को कहा कि एयरलाइन को फिर खड़ा करने के लिए विचार विमर्श चल रहा है लेकिन अभी कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है। एसबीआई कैपिटल मार्केट्स जेट एयरवेज के लिए पुनरोद्धार पैकेज पर काम कर रही है. पीएनबी भी भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाले उन 26 बैंकों के गठजोड़ का हिस्सा है, जिन्होंने जेट एयरवेज को 8,000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज दिया है.

साथ ही जेट एयरवोज ने मंगलवार को कहा कि उसे भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ से आपात नकदी समर्थन का इंतजार है, जिससे वह अपनी सेवाओं में आ रही गिरावट को रोक सके. एयरलाइन अभी सिर्फ पांच विमानों का परिचालन कर रही है. विमानन कंपनी ने कहा है कि गंभीर नकदी संकट की वजह से उसका परिचालन बुरी तरह प्रभावित हुआ है.

बंबई शेयर बाजार को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि वह अपने निदेशक मंडल के साथ विचार विमर्श कर रही है. उसकी आपात नकदी के सहयोग के लिए ऋणदाताओं के साथ बातचीत चल रही है. कंपनी की नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) तथा नागर विमानन मंत्रालय के साथ लगातार बातचीत चल रही है. एक्सचेंजों ने एयरलाइन से उसके द्वारा अस्थायी रूप से परिचालन बंद करने की खबरों के बाद स्पष्टीकरण मांगा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here