सपा-बसपा गठबंधन को अमित शाह तंज- ‘कभी एक दूसरे का मुंह न देखने वाले आज हाथ मिलाकर टहल रहे हैं

0
171

दिल्ली के रामलीला मैदान (Ramleela Maidan, Delhi) में आयोजित भारतीय जनता पार्टी (BJP) की राष्ट्रीय परिषद की बैठक (BJP National Convention) में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि जनसंघ और भाजपा को राजनीतिक पहचान देने में अटल जी का बड़ा योगदान है. आज जब वे हमारे बीच नहीं हैं, तब हम रिक्तता महसूस कर रहे हैं, लेकिन कारवां रुकेगा नहीं. उनके बताए रास्ते पर चलते रहेंगे. हम 2019 के चुनाव मैदान में जाने के लिए तैयार हैं. ये चुनाव बीजेपी के लिए तो महत्वपूर्ण है ही, साथ ही भारत के लिए भी उतना ही महत्वपूर्ण है. मोदी जी के नेतृत्व में भारत की विकास यात्रा और गौरव यात्रा जारी रहेगी. NDA की पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनने जा रही है.

अमित शाह ने कहा कि 2019 का चुनाव दो विचारधाराओं के बीच है. मोदी जी के नेतृत्व में 35 दल एक साथ खड़े हैं, दूसरी तरफ वे लोग हैं, जिनका कोई नेता तक नहीं है. स्वार्थ के लिए इकट्ठा हुए हैं. अमित शाह ने कहा कि मैं मानता हूं कि 2019 का ‘युद्ध’ सदियों तक असर छोड़ने वाला है. उन्होंने कहा कि हमारे पास 16 राज्यों की सरकारों की ताकत है और इसके साथ चुनाव मैदान में जा रहे हैं. 5 साल के अंदर देश का विकास और गौरव दोगुनी रफ्तार से बढ़ा है. 2019 में हमारी विजय निश्चित है. देश की जनता मोदी जी के पीछे चट्टान की तरह खड़ी है. मोदी जी जैसा लोकप्रिय नेता विश्व में किसी दल के पास नहीं है.

अमित शाह ने कहा कि यूपी में 73 से 74 होने की संभावना है, लेकिन 72 नहीं होगा. हम 50 फीसद की लड़ाई लड़ने के लिए तैयार हैं. उन्होंने सपा-बसपा गठबंधन पर तंज कसते हुए कहा कि ‘कभी एक दूसरे का मुंह न देखने वाले आज हाथ मिलाकर टहल रहे हैं, क्योंकि उन्हें पता है कि मोदी जी को हराना मुश्किल है’. अमित शाह ने कहा कि दुनिया के किसी देश में 50 करोड़ लोगों को समाहित करने वाली स्वास्थ्य योजना नहीं है. हमने गरीबों के लिए बहुत काम किया. 2014 तक देश की सुरक्षा का कोई ठौर-ठिकाना नहीं था. इस स्थिति में नरेंद्र मोदी पीएम बने. सबसे पहला काम हमने जवानों को वन रैंक वन पेंशन देने का काम किया. जवानों के परिवारों का सम्मान किया. पहले गोलियां चलाने के लिए दिल्ली पूछना पड़ता था. हमने कहा, गोली का जवाब गोले से दिया जाए. पीछे नहीं हटना है. 70 साल से देश ऐसी सरकार चाहता था. नक्सलवाद और माओवाद खत्म होने की कगार पर है. पाकिस्तान के अंदर घुसके जवानों की हत्या का बदला बदला लिया.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि मैं राहुल गांधी एंड कंपनी से पूछना चाहता हूं कि वे अपना रुख स्पष्ट करें कि देश में घुसपैठिये रहें या नहीं. यह हमारे लिए वोट बैंक का मुद्दा नहीं है, बल्कि देश की सुरक्षा का मुद्दा है. चुनाव जीतने के लिए सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया में हमारा डंका बज रहा है. एक के बाद एक गौरव के पल बीजेपी के नेतृत्व में आ रहे हैं और आगे और भी ऐसे पल सामने आएंगे. 5 साल तक मोदी जी ने भ्रष्टाचार पर नकेल कसने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी. नोटबंदी भी की.

राफेल डील के मसले पर अमित शाह ने कहा कि जब मामला सुप्रीम कोर्ट में गया तो मैंने राहुल गांधी को कहा कि आपके पास जितने भी दस्तावेज हैं वो कोर्ट को दे दीजिये, लेकिन नहीं दिया. सिर्फ भ्रांतियां फैलाई. उन्हें लगा था कि हम संसद में नहीं बोलेंगे, लेकिन झूठ का पर्दाफाश किया. रक्षामंत्री ने एक-एक प्वाइंट का जवाब दिया. चौबे जी छब्बे बनने निकले थे और दूबे बनकर संसद से बाहर आए. अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने अगड़ा समाज के लिए 10 फीसद आरक्षण का प्रावधान कर बहुत बड़ा कदम उठाया है. कांग्रेस के नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि हम जनता को मूर्ख बना रहे हैं. मैं कहता हूं कि जरा अपना घोषणापत्र उठाकर देख लीजिये…आपने भी यह वादा किया था. गिने-चुने मौके छोड़कर हमने महंगाई को काबू में रखा. हम देश को सुधारने के लिए और आगे बढ़ाने के लिए आए हैं. राम मंदिर के मुद्दे पर अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए. वे रोड़ा अटकाते रहे हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here