AMU के छात्रों की पुलिस से झड़प, यूनिवर्सिटी 5 जनवरी तक बंद, इंटरनेट पर लगाई गई रोक

यूपी पुलिस का आरोप है कि छात्रों ने उनपर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस को आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा.

0
335

जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Milia Islamia) के छात्र और दिल्ली (Delhi Protest) पुलिस बीते रविवार आमने-सामने थे. वजह थी नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) का विरोध. पुलिस पर पथराव, आगजनी और लाठीचार्ज जैसी खबरों से दिल्ली थर्रा उठी. जामिया नगर से लगे सराय जुलैना के पास DTC की तीन बसों को आग के हवाले कर दिया गया.

जामिया के छात्रों के साथ बदसलूकी को लेकर उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (Aligarh Muslim University) में भी बवाल शुरू हो गया. यूपी पुलिस का आरोप है कि छात्रों ने उनपर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस को आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा. फिलहाल एहतियातन यूनिवर्सिटी को 5 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया है. अलीगढ़, सहारनपुर और मेरठ में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है.

मिली जानकारी के अनुसार, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में विवाद तब बढ़ गया, जब छात्रों ने जामिया के छात्रों के लिए कैंपस में मार्च निकाला. छात्र परिसर से बाहर जाना चाहते थे. विश्वविद्यालय प्रशासन ने उन्हें रोकने की कोशिश की. बताया जा रहा है कि इसके बाद छात्रों का पुलिस के साथ विवाद बढ़ा और पथराव और लाठीचार्ज में 20 छात्र और 10 पुलिसकर्मी घायल हो गए. पुलिस ने कुछ छात्रों को हिरासत में लिया, जिन्हें बाद में छोड़ दिया गया. रविवार देर रात यूनिवर्सिटी में ‘एंटी-रॉयट व्हीकल’ भी बुलाए गए.

राज्य के एडीजीपी (Law & Order) अजय आनंद ने कहा, ‘पुलिस बल यूनिवर्सिटी में तैनात है और स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है. कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. कुछ पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं, उनका इलाज जारी है.’ इस बीच AMU के रजिस्ट्रार अब्दुल हामिद (Abdul Hamid) ने कहा, ‘मौजूदा हालातों को देखते हुए हमने 5 जनवरी तक शीतकालीन अवकाश की घोषणा कर दी है. छात्रों की परीक्षाएं इसके बाद होंगी.’

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने यूनिवर्सिटी के छात्रों व जनता से शांति बनाए रखने की अपील की है. उन्होंने कहा कि सरकार राज्य के हर नागरिक की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है. हर किसी को कानून का पालन करना चाहिए. उन लोगों के लिए प्रदेश में कोई जगह नहीं है जो कानून व्यवस्था का अपमान करते हैं. सीएम (Yogi Adityanath) ने आगे कहा कि कुछ लोग नागरिकता संशोधन कानून के बारे में गलत अफवाह फैला रहे हैं. इस कानून के तहत किसी के साथ भी भेदभाव नहीं हो रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here