Pulwama Update: सिद्धू के लिए दोस्ती पहले है और देश बाद में-अरविंद केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने ‘देश की भावनाओं' को आहत किया है. इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के करीब 40 जवान शहीद हुए हैं.

0
265

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने मंगलवार को दावा किया कि पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) भारत के हितों से ज्यादा पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के साथ अपनी दोस्ती को लेकर चिंतित हैं. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा (Pulwama Terror Attack) में सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले के बाद कांग्रेस नेता सिद्धू द्वारा दिए गए बयान की आलोचना करते हुए केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने ‘देश की भावनाओं’ को आहत किया है. इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के करीब 40 जवान शहीद हुए हैं.

इस हमले के बाद सिद्धू ने कहा था कि ‘कुछ लोगों के कृत्य’ के लिए पूरे देश पर आरोप नहीं लगाया जा सकता. केजरीवाल ने कहा, ‘सिद्धू के बयान से पूरे देश की भावनाएं आहत हुई हैं.’ दिल्ली के मुख्यमंत्री आम आदमी पार्टी की विधायक बलजिंदर कौर की शादी के प्रतिभोज में हिस्सा लेने आए थे. उन्होंने कहा, ‘ऐसा लगता है कि सिद्धू के लिए दोस्ती पहले है और देश बाद में.’ उन्होंने ‘गैरजिम्मेदाराना’ बयान को लेकर सिद्धू की आलोचना की.

बता दें, केजरीवाल से पहले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर सिद्धू को पाकिस्तानी पीएम इमरान खान को समझाने की सलाह दी है. दिग्विजय सिंह बोले- सिद्धू जी अपने दोस्त इमरान भाई को समझाइए… उसकी वजह से आपको गाली पड़ रही है. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा- पाकिस्तान के सम्मानित प्रधानमंत्री हौसला दिखाइए और आतंकी हाफिज सईद तथा मसूद अजहर को भारत के हवाले करिए. इससे आप न केवल पाकिस्तान को वित्तीय संकट से बाहर निकालेंगे बल्कि नोबेल शांति पुरस्कार की दौड़ में भी सबसे आगे होंगे.

दिग्विजय सिंह ने पुलवामा की घटना को लेकर एक के बाद एक कई ट्वीट किए. उन्होंने कहा- मैं जानता हूं कि मोदी भक्त मुझे ट्रोल कर रहे हैं, मगर मैं इसकी परवाह नहीं करता. इमरान खान एक क्रिकेटर हैं, जिनकी मैं सराहना करता हूं. मगर वह मुस्लिम कट्टरपंथियों और आईएसआई (ISI) प्रायोजित आतंकवादी समूहों को समर्थन देंगे, इस पर मैं विश्वास नहीं कर सकता.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here