एम्स में अटल से मिलने पहुंचे पार्टी के तमाम नेता

0
139

पिछले करीब 2 महीनों से दिल्ली के एम्स में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक है। उन्हें फुल लाइफ सपॉर्ट पर रखा गया है। AIIMS के ताजा मेडिकल बुलेटिन में भी यही बताया गया कि उनकी सेहत में रात से कोई सुधार नहीं है। अटल के गिरते स्वास्थ्य को लेकर हर कोई बेचैन है। पीएम मोदी समेत कई केंद्रीय मंत्री एम्स जा चुके हैं।

गुरुवार सुबह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह अटल का हाल जानने पहुंचे थे। खबरों के मुताबिक, पीएम मोदी दोबारा अटल बिहारी वाजपेयी से मिलने पहुंचेंगे।

इससे पहले बुधवार शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने AIIMS पहुंचकर बीजेपी के शिखर पुरुष का हाल जाना। प्रधानमंत्री मोदी रात करीब सवा 7 बजे AIIMS पहुंचे। वह करीब 10 मिनट तक अस्पताल में रहे और वाजपेयी का इलाज कर रहे डॉक्टरों से मुलाकात कर पूर्व पीएम का हाल जाना। मोदी के अलावा जितेंद्र सिंह, राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी, सुरेश प्रभु आदि बुधवार को एम्स पहुंचे थे।

एम्स ने बुधवार को राजी प्रेस रिलीज में बताया था, ‘पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पिछले 9 सप्ताह से AIIMS में भर्ती हैं। पिछले 24 घंटों में दुर्भाग्य से उनकी स्थिति और बिगड़ी है। उनकी हालत नाजुक है और वह लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर हैं।’

वाजपेयी को गुर्दा (किडनी) नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के बाद 11 जून को AIIMS में भर्ती कराया गया। सूत्रों ने बताया कि उनकी हालत गंभीर है। वह वेंटिलेटर सपॉर्ट पर रखे गए हैं और सीएन टावर स्थित आईसीयू में डॉक्टरों की एक टीम लगातार उनकी हालत पर नजर रखी हुई है। मधुमेह के शिकार 93 वर्षीय BJP नेता का एक ही गुर्दा काम करता है। 2009 में उन्हें स्ट्रोक आया था जिसके बाद उनकी सोचने-समझने की क्षमता कमजोर हो गई। बाद में वह डिमेंशिया से भी पीड़ित हो गए। जैसे-जैसे उनकी सेहत गिरती गई, धीरे-धीरे उन्होंने खुद को सार्वजनिक जीवन से दूर कर लिया।

वाजपेयी 3 बार प्रधानमंत्री रहे। वह पहली बार 1996 में प्रधानमंत्री बने और उनकी सरकार सिर्फ 13 दिनों तक ही रह पाई। 1998 में वह दूसरी बार प्रधानमंत्री बने, तब उनकी सरकार 13 महीनों तक चली थी। 1999 में वाजपेयी तीसरी बार प्रधानमंत्री बने और 5 सालों का कार्यकाल पूरा किया। 5 साल का पूर्ण कार्यकाल पूरा करने वाले वह पहले गैरकांग्रेसी प्रधानमंत्री हैं।

निरंजन कुमार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here