श्रद्धांजलि सभा में अटल जी को याद कर भावुक हुए आडवाणी

0
249

राजधानी दिल्ली के इदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम में सोमवार को दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने के लिए सर्वदलीय शोक सभा का आयोजन हुआ। श्रद्धांजलि सभा में बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी भावुक हो गए। उन्होंने भारी मन से अटलजी के साथ अपनी 65 साल पुरानी दोस्ती को याद करते हुए कहा कि उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि उन्हें ऐसी किसी सभा को संबोधित करना पड़ेगा। श्रद्धांजलि सभा में आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने भी अटलजी को याद किया और उनके बताए रास्तों पर चलने का संकल्प लिया। सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद समेत तमाम हस्तियों ने अटलजी को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

अटलजी की श्रद्धांजलि सभा में उनके अजीज दोस्त लालकृष्ण आडवाणी भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि जब मेरी आत्मकथा का विमोचन हुआ तो अटलजी उपस्थित नहीं हो पाए थे, जिसका उन्हें बहुत कष्ट हुआ और आज जब वह नहीं हैं तो कितना कष्ट हो रहा है, यह समझा जा सकता है। आडवाणी ने कहा, ‘जीवन में अनेक सभाओं को संबोधित किया लेकिन आज जैसी यह सभा मैं कभी संबोधित करूंगा, इसकी कभी मेरे मन में कल्पना नहीं थी। मैं जब आज जैसी सभा कह रहा हूं तो मुझे इसका पहला-पहला लक्षण यही नजर आता है कि ऐसी सभा जिसमें अटलजी उपस्थित न हों, ऐसी सभा को संबोधित करना पड़ेगा। वह कभी-कभी कहते थे कि मैं कितने दिन रहूंगा। जब वह ऐसी बातें करते थे तो मन में तकलीफ होती थी।’

वहीं मोहन भागवत ने कहा, ‘मेरा अटलजी से बहुत ज्यादा संपर्क नहीं रहा। लेकन कॉलेज में पढ़ता था तब अटलजी आए थे और उन्हें पहली बार देखा था। उनका भाषण सुनने के लिए जाया करते थे। पीएम आवास पर जाकर उनकी चर्चा को सुनने का सौभाग्य मिला।’ भागवत ने कहा कि अटलजी सबके प्रति मित्रता का भाव रखते थे। सार्वजनिक जीवन की ऊंचाई पर पहुंचकर भी वह जमीन से जुड़े रहे। संघ प्रमुख ने कहा कि अटलजी ने अपने जीवन से हम सबके सामने आदर्श प्रस्तुत किया है। उन्होंने कहा कि आज अटलजी नहीं हैं लेकिन वह हमारे ईर्द-गिर्द ही हैं और रहेंगे। कविताओं, भाषणों, जीवन के किस्सों के रूप में हमेशा मौजूद रहेंगे। पहले भी थे, आज भी हैं और सदा रहेंगे।

निरंजन कुमार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here