झूठे दस्तावेजों से जरिये एक्सिस बैंक से 250 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी

0
339
axis bank

देश में बैंक घोटाले थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। वहीं एक्सिस बैंक घोटाले को लेकर मुंबई पुलिस के आर्थिक अपराध सेल्ल ने निजी कंपनियों के तीन निदेशकों को अपनी गिरफ्त में लिया है। इन तीनो ने फर्जी दस्तावेजों के जरिये 290 करोड़ का लोन लिया था। हलांकि समय पर पुलिस ने इन्हे चतुराई पकड़ से लिया । बता दें बैंक ने दस्तावेजों के सत्यापन के बाद पारेख एल्युमिनेक्स लिमिटेड के भवरलाल भंडारी, प्रेमल गोरागांधी और कमलेश कानूनगो के खिलाफ बैंक को गुमराह करने और गलत तरिके से लोन प्राप्त करने को लेकर याचिका दायर की थी।

जिसके बाद जल्द ही आर्थिक अपराध कानून के द्वारा उनको गिरफ्तार किया गया एक रिपोर्ट के मुताबिक खबर के मुताबिक एक्सिस बैंक इस कंपनी को कर्ज देने वाले 20 ऋणदाताओं के समूह का हिस्सा है। इनके नाम अमिताभ पारेख, राजेंद्र गोठी, देवांशु देसाई, किरन पारिख और विक्रम मोरदानी हैं। इनमें अमिताभ पारेख की 2013 में मौत हो गई थी।

एक खास रिपोर्ट में पुलिस ने घोटाले के पूरा सच सामने रखा उन्होंने बताया की इन तीनो पाटनर्स ने एक्सिस बैंक से पहले भी लोन लिया था । जो तीन बार शार्ट टर्म तरिके से लिया और भर भी दिया साल 2011 में पारेख ने 127.5 करोड़ का लोन लिया था । इस लोन के लिए उसने बोर्ड ऑफ़ डारेक्टर के संबंधित दस्तावेज शामिल किये थे । जिस के आधार पर बैंक ने कंपनी को उपकरण और माल खरीदने के लिए लोन दिया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here