CAA को लेकर चर्चा होनी चाहिए, NRC का बिहार में कोई औचित्य ही नहीं – नीतीश कुमार

नीतीश कुमार ने कहा कि नागरिकता कानून को लेकर बहस होनी चाहिए और बिहार में NRC लागू होने का कोई सवाल पैदा ही नहीं होता.

0
603

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और NRC को लेकर एक बार फिर बड़ा बयान दिया है. नीतीश कुमार ने कहा कि नागरिकता कानून को लेकर बहस होनी चाहिए और बिहार में NRC लागू होने का कोई सवाल पैदा ही नहीं होता. नीतीश कुमार NRC को लेकर पहले भी बयान दे चुके हैं. नीतीश कुमार की पार्टी ने संसद में नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन किया था. बता दें, जनता दल यूनाइटेड (JDU) के नेता प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) के रविवार के Tweet किया था कि नीतीश कुमार न नागरिक क़ानून और न NPR-NRC लागू करेंगे.

प्रशांत किशोर के इस बयान के बाद सतारूढ़ NDA के घटक दलों में खलबली मची है. अधिकांश नेताओं का कहना हैं कि प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) कुछ ज़्यादा बढ़चढ़ कर नीतीश कुमार से संबंधित दावा कर रहे हैं. एक बार फिर इसका एक उदाहरण रविवार को देखने को मिल गया जब पार्टी के एक कार्यक्रम में राज्यसभा में संसदीय दल के नेता आरसीपी सिंह ने फिर कहा कि नये नागरिकता क़ानून (CAA) और NRC पर कुछ लोग भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. जब तक नीतीश कुमार हैं किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया जायेगा. हालांकि इस बार बीजेपी के किसी नेता ने बयान नहीं दिया लेकिन सवाल है जब NPR कराने की अधिसूचना जारी हो चुकी है तब क्या नीतीश कुमार वापस एक क़दम जाएंगे?

नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार विधानसभा में CAA को लेकर विशेष चर्चा होनी चाहिए. इसके साथ ही JDU NDA का पहला घटक दल बन गया है, जिसने खुले तौर पर कहा है कि इस कानून पर दोबारा चर्चा होनी चाहिए. नीतीश कुमार का यह बयान बिहार विधानसभा में कांग्रेस और RJD के इस कानून को लेकर हमला करने के बाद आया है. NRC पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में इसका कोई औचित्य ही नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here