BJP: राहुल हिंदुओं को भ्रमित करने के लिये शर्ट के ऊपर जनेऊ पहनने की कोशिश कर रहे हैं

0
394

पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी बयानबाजियां अब तेज हो गई हैं. सोमवार को महाकाल के दर्शन करने उज्जैन पहुंचे राहुल गांदी पर अब बीजेपी ने जमकर निशाना साधा है. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने राहुल की वेशभूषा पर सवाल उठाते हुए कहा कि राहुल हिंदुओं को भ्रमित करने के लिये शर्ट के ऊपर जनेऊ पहनने की कोशिश कर रहे हैं. खुद को जनेऊधारी ब्राह्मण के रूप में पेश करने वाले राहुल से हम मांग करते हैं कि वह अपना गोत्र बतायें.” भाजपा प्रवक्ता ने कटाक्ष किया कि इस सिलसिले में कोई जवाब नहीं मिलने पर लोग राहुल को “वेटिकन गोत्र का ब्राह्मण” बता रहे हैं.

भाजपा ने कांग्रेस नेता शशि थरूर के शिवलिंग संबंधी विवादास्पद बयान को लेकर राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए आज आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष हिंदुओं की आंखों में धूल झोंकने के लिये “फैंसी ड्रेस हिंदुत्व” का प्रदर्शन कर रहे हैं. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने यहां संवाददाताओं से कहा, “राहुल के खास नेता थरूर ने अपने आपत्तिजनक बयान से करोड़ों हिंदुओं की आस्था के केंद्र भगवान महादेव के पवित्र शिवलिंग के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी अपमानित किया. ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष महाकाल की पूजा कैसे सकते हैं.” कांग्रेस नेताओं पर आपत्तिजनक बयानों से हिंदुओं को बार-बार अपमानित करने का आरोप लगाते हुए पात्रा ने मांग की कि थरूर के विवादास्पद बयान के लिये खुद राहुल क्षमा-याचना करें और तिरुवनंतपुरम के 62 वर्षीय सांसद को कांग्रेस से फौरन बर्खास्त किया जाये.

गौरतलब है कि बेंगलुरू लिटरेचर फेस्टिवल में अपने भाषण में थरूर ने कथित रूप से कहा था,‘‘संघ के एक अनाम सूत्र ने एक पत्रकार से बातचीत में असाधारण उपमा का इस्तेमाल करते हुए, मोदी को रोकने में अपनी असमर्थता के साथ निराशा जाहिर की थी जिसे मैंने उद्धृत किया है.” उन्होंने कहा था,‘‘उस व्यक्ति का कहना था कि मोदी शिवलिंग पर बैठे उस बिच्छू की तरह हैं, जिसे न तो हाथ से हटाया जा सकता है और न ही चप्पल से मारा जा सकता है.” कांग्रेस नेता ने कहा था कि यह उपमा रिश्ते की एक बेहद स्पष्ट समझ पेश करती है. ‘‘अगर आप हाथ से बिच्छू को हटाते हैं, तो वह आपको डंक मारेगा. यदि आप शिवलिंग पर चप्पल मारते हैं, तो आप आस्था के सभी पवित्र सिद्धांतों को कमजोर कर देंगे.” अपने भाषण को लेकर विवाद उठाने के बाद थरूर ने ट्वीट के जरिये स्पष्ट किया कि ये बयान उनका नहीं है.

उन्होंने कहा था कि यह बयान (जो मेरा नहीं है) छह वर्षों से लोगों के बीच है. पात्रा ने यह भी दावा किया कि वर्ष 2014 के पिछले लोकसभा चुनावों में जबर्दस्त हार के बाद कांग्रेस में गठित एके एंटनी समिति की रिपोर्ट में कहा गया था कि पार्टी खुद को “मुस्लिमों की पार्टी” के रूप में दिखाती है और दल को अपनी सियासी स्थिति में सुधार के लिये हिंदुओं के वोट की भी चिंता करनी होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here