BJP के आरोप 2019 के चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस ले रही कैम्ब्रिज एनालिटिका की मदद

0
357

फेसबुक पर करीब 5 करोड़ यूजर्स की जानकारियां लीक होने से जिस डेटा फर्म को फायदा पहुंचने के आरोप लग रहे हैं, बीजेपी ने उसी एजेंसी से कांग्रेसके कनेक्शन का दावा किया है। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर सोशल मीडिया के जरिए चुनावों को प्रभावित करने की कोशिश के गंभीर आरोप लगाए हैं। प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने 2019 के चुनाव प्रचार के लिए ब्रिटिश एजेंसी कैम्ब्रिज एनालिटिका को जिम्मेदारी सौंपी है, जिस पर कई गंभीर आरोप लगे हैं। मीडिया के एक सेक्शन द्वारा इसे कांग्रेस के ‘ब्रह्मास्त्र’ के तौर पर बताया जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि जिस एजेंसी को कांग्रेस पार्टी ने हायर किया है उस पर घूस लेने, सेक्स वर्कर्स के जरिए राजनेताओं को फंसाने और फेसबुक से डेटा चुराने जैसे गंभीर आरोप लगे हैं। गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने भी चुनाव प्रचार के समय इसी एजेंसी की सेवाएं ली थी।

केंद्रीय मंत्री ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, ‘हम बोलने की आजादी और सोशल मीडिया पर खुले विचारों के संप्रेषण का समर्थन करते हैं लेकिन सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर अवांछनीय तरीके से चुनावों को प्रभावित करने के प्रयासों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।’ प्रसाद ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि क्या कांग्रेस पार्टी डेटा में हेरफेर और चोरी के जरिए चुनाव जीतना चाहती है?

उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल में कैम्ब्रिज एनालिटिका की भूमिका स्पष्ट करनी चाहिए। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि फेसबुक समेत अन्य सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर चुनावों को प्रभावित करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। गौरतलब है कि बुधवार को ही दुनिया का सबसे बड़ा सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म फेसबुक विवादों में घिर गया।

दावा किया जा रहा है कि फेसबुक पर करीब 5 करोड़ यूजर्स की निजी जानकारियां लीक हुई हैं, जिसका फायदा अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप के लिए काम कर रही फर्म कैम्ब्रिज एनालिटिका ने उठाया। आरोप हैं कि फर्म ने वोटर्स की राय को मैनिप्युलेट करने के लिए फेसबुक यूजर्स डेटा में सेंध लगाई। अब इस मामले में फेसबुक के संस्थापक जकरबर्ग से जवाब-तलब किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here