बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा,”BMC ने अदालत का समय बर्बाद किया और तब तक पूरा तोड़फोड़ का काम कर दिया.”

बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने कहा कि BMC का स्टॉप-वर्क नोटिस अस्पष्ट है और अनधिकृत कार्यों के बारे में बताया नहीं गया है.

0
574

बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने आज बृहन्मुंबई महानगरपालिका द्वारा अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के ऑफिस में की गई तोड़फोड़ पर रोक लगा दी, और कहा कि बीएमसी का आचरण “दुर्भावनापूर्ण” और “अपमानजनक” था. अदालत ने बीएमसी को नोटिस दिया है. गौरतलब है कि बीएमसी में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना सत्ता में है.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा कि BMC ने जिस तरह से तोड़फोड़ का काम शुरू किया वह कहीं से भी प्रामाणिक नहीं है और दुर्भावना से किया गया लगता है.

कोर्ट ने कहा, ”हम मामले में मदद तो नहीं कर सकते लेकिन अगर BMC ऐसे ही काम करती रही तो यह शहर पूरी तरह से एक अलग ही जगह हो जाएगा.

कोर्ट ने कहा कि BMC का स्टॉप-वर्क नोटिस अस्पष्ट है और अनधिकृत कार्यों के बारे में बताया नहीं गया है.

कोर्ट ने कहा,”BMC ने अदालत का समय बर्बाद किया और तब तक पूरा तोड़फोड़ का काम कर दिया.”

कोर्ट ने कहा,”हम BMC के आचरण को अत्यधिक अपमानजनक पाते हैं, इसलिए कि BMC को अच्छी तरह से पता था कि याचिकाकर्ता द्वारा किसी भी समय इस अदालत के समक्ष याचिका दायर की जाएगी और अदालत भी तत्काल आदेश देगी.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here