नागरिकता बिल के विरोध में प्रदर्शन: असम-त्रिपुरा-मेघालय में इंटरनेट बंद, गुवाहाटी-शिलॉन्ग में कर्फ्यू जारी

गुवाहाटी में दो प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई है. यातायात सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हैं. ट्रेनों के साथ-साथ गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ जाने वाली कई उड़ानें भी रद्द हुई हैं.

0
272

नागरिकता संशोधन बिल (CAB) के विरोध में पूरे असम में प्रदर्शन चल रहा है. बुधवार को हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद कल गुवाहाटी (Guwahati) में लोगों ने कर्फ़्यू का उल्लंघन किया. गुवाहाटी में दो प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई है. यातायात सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हैं. ट्रेनों के साथ-साथ गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ जाने वाली कई उड़ानें भी रद्द हुई हैं.

असम के चार इलाकों में सेना को तैनात किया गया है. वहीं मेघालय में भी विरोध जारी है. जबकि शिलॉन्ग को छोड़कर राज्य का बाकी हिस्सा नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) के दायरे में नहीं आने वाला है. शिलॉन्ग में ही दो गाड़ियां आग के हवाले कर दिया गया. मुख्यमंत्री और मंत्री दिल्ली के लिए फ़्लाइट नहीं ले पाए.

शिलॉन्ग (Shillong) में अनिश्चितकालीन कर्फ़्यू (Curfew) लगा दिया गया है. 48 घंटे के लिए इंटरनेट और एसएमएस पर रोक है. वहीं त्रिपुरा में फिलहाल स्थिति काबू में है और शांति बनी हुई है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने भी Tweet करते हुए असम के लोगों से अपील की है और उन्हें आश्वस्त किया है. पीएम मोदी ने लिखा, ‘मैं असम के अपने भाई-बहनों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि उन्हें नागरिकता संशोधन बिल (CAB) के पारित होने के बाद चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. मैं उन्हें आश्वस्त करना चाहता हूं कि कोई उनसे उनके अधिकार, अनूठी पहचान और खूबसूरत संस्कृति नहीं छीन सकता. वह लगातार फलती-फूलती रहेगी.’

नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) के खिलाफ असम और त्रिपुरा में हो रहे हिंसक विरोध प्रदर्शनों का असर यातायात पर पड़ रहा है. रेलवे ने असम और त्रिपुरा आने-जाने वाली सभी यात्री ट्रेनों को निलंबित कर दिया और लंबी दूरी वाली ट्रेनों को गुवाहाटी में ही रोका जा रहा है. वहीं विमानन कंपनी इंडिगो ने डिब्रूगढ़ आने-जाने वाली सभी फ्लाइट्स कैंसल कर दी हैं. कंपनी ने यात्रियों को इसके लिए अल्टरनेट फ्लाइट लेने या रिफंड की पेशकश की है. पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के प्रवक्ता सुभानन चंदा ने बताया कि सुरक्षा स्थिति को देखते हुए यह फैसला बुधवार रात में लिया गया, जिसके बाद कई यात्री कामाख्या और गुवाहाटी में फंस गए. बुधवार रात गुवाहाटी में अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया था क्योंकि यहां प्रदर्शनकारियों ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और केंद्रीय मंत्री रामेश्वर तेली के घर को निशाना बनाया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here