मुख्यमंत्री मनोहर लाल के गलत साबित हो रहे हैं दावे।

कुछ घंटे की बारिश ने गुरुग्राम प्रशासन और मुख्यमंत्री मनोहरलाल के दावों की पोल खोल कर रख दी. मॉल्स में पानी भर गया तो सड़कें तालाब में तब्दील हो गई.

0
220

Gurugram: उत्तर भारत में मॉनसून की पहली बारिश में लोगों को भीषण गर्मी से राहत दी. कई इलाकों में झमाझम बारिश हुई. इससे तापमान में गिरावट दर्ज की गई. वहीं किसानों के चहरे खिल गए. लेकिन साइबर सिटी गुरुग्राम में ये बरसात मुसीबत बन कर आई.

कुछ घंटे की बारिश ने गुरुग्राम प्रशासन और मुख्यमंत्री मनोहरलाल के दावों की पोल खोल कर रख दी. मॉल्स में पानी भर गया तो सड़कें तालाब में तब्दील हो गई. गाड़ियों की रफ्तार थम गई. कई जगहों पर गाड़ियों की लंबी-लंबी कतारें लग गई.

गुरुग्राम में सड़कों पर जाम ने एक बार फिर 2016 के महाजाम की याद दिला दी. साइबर सिटी की सभी मुख्य सड़के पैक हो गई. गुरुग्राम में सड़कों पर जाम ने एक बार फिर 2016 के महाजाम की याद दिला दी. साइबर सिटी की सभी मुख्य सड़के पैक हो गई.

इसके अलावा मनोहरलाल सरकार का दूसरा दावा भी गलत साबित होता नज़र आ रहा है।

मुख्यमंत्री अपने इंटरव्यूज में बार बार दावा करते आये हैं की हरियाणा के पास सरप्लस पावर है। लेकिन पिछले कुछ दिनों से गुरुग्राम के पालम विहार और सेक्टर -3 से लगातार रिपोर्ट आरही है की यहां के लोग पिछले 72 घंटों से बिना बिजली के रह रहे हैं।

बीती रात परेशान हो कर यहाँ के निवासी सड़कों पर उतर आये, पहले तो अधिकारी ताल मटोल करते रहे जब लोग वहां से टस से मस नहीं हुए तो SDO ने फीडर से लाइन ऑन कर दी और लोग अपने घरों को वापिस चले गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here