नागरिकता कानून के विरोध में शुरू हुआ कांग्रेस का ‘सत्याग्रह’

थोराट ने कहा कि महाराष्ट्र ने कभी धर्म के नाम पर बांटने का काम नहीं किया और आज भी नागरिकता कानून के खिलाफ खड़ा है।

0
359

नागरिकता संशोधन कानून (CAA 2019) के खिलाफ सत्याग्रह के लिए दिल्ली पुलिस की इजाजत नहीं मिलने से कांग्रेस (Congress) ने रविवार को जो कार्यक्रम रद्द किया था, वह अब शुरू हो गया है। यह कार्यक्रम राजघाट स्थित गांधी समाधि (Gandhi Samadhi) के पास हो रहा है। इसमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) समेत पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh), गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) समेत कई बड़े नेता मौजूद हैं।

महाराष्ट्र के कांग्रेस नेता बाला साहेब थोराट (Bala Saheb Thorat) ने कहा महाराष्ट्र संतों की भूमि है। यहां शिवाजी से लेकर अंबेडकर तक महानायक हुए हैं। थोराट ने कहा कि महाराष्ट्र ने कभी धर्म के नाम पर बांटने का काम नहीं किया और आज भी नागरिकता कानून के खिलाफ खड़ा है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि नागरिकता कानून के कारण लोकतंत्र खतरे में है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी (PM Modi) इसे लेकर गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र का एजेंडा RSS का एजेंडा है, वो देश को बांटना चाहते हैं। गहलोत ने कहा हम उनसे मुकाबला करने को तैयार हैं और पूरा देश भी। साथ ही राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे प्रदेश में नागरिकता कानून लागू नहीं करेंगे। उन्होंने संविधान की प्रस्तावना को भी पढ़ा।

सत्याग्रह में शामिल हुए एमपी (Madhya Pradesh) के CM कमलनाथ ने कहा कि एमपी में नागरिकता कानून लागू नहीं होगा। कांग्रेस सरकार इसे लागू नहीं करेगी।

सत्याग्रह में सबसे पहले बोलते हुए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने संविधान की प्रस्तावना पढ़ी। सोनिया गांधी के बाद डॉ. मनमोहन सिंह ने भी संविधान की प्रस्तावना पढ़ी। इन दोनों नेताओं ने अंग्रेजी में ही प्रस्तावना पढ़ी।

सोनिया गांधी के राजघाट पहुंचने के बाद वंदे मातरम गाया गया और इसके बाद औपचारिक रूप से कांग्रेस का सत्याग्रह शुरू हो गया। यहां प्रथम पंक्ति में सोनिया, राहुल और डॉ. मनमोहन सिंह बैठे हैं।

इस वक्त राजघाट पर राहुल, प्रियंका और डॉ. मनमोहन सिंह समेत तमाम बड़े कांग्रेसी नेता राजघाट पर इकट्ठा हो गए हैं। इस वक्त भजन का कार्यक्रम चल रहा है। सोनिया गांधी के पहुंचते ही यहां पर संविधान पाठ का कार्यक्रम शुरू हो सकता है।

इसमें जनभागीदारी के लिए खुद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को युवाओं, छात्रों तथा अन्य लोगों से राजघाट पर आने की अपील की है। राहुल और प्रियंका ने लोगों का आह्वान कर उन्हें सत्याग्रह सफल बनाने को कहा है।

कांग्रेस ने संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ और प्रदर्शनकारी छात्रों के समर्थन में सोमवार को दिन में सत्याग्रह का आयोजन किया है। राहुल गांधी ने अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से कहा है कि, ‘प्रिय छात्रों और युवाओं, क्या यह काफी नहीं है कि हम भारत की अनुभूति करें। यह वह समय है जब आपको दिखाना होगा कि आप नफरत के जरिये देश को बर्बाद होने देंगे या नहीं होने देंगे।’

राहुल ने आगे लिखा, ‘राजघाट पर दिन में तीन बजे मेरे साथ सत्याग्रह में शामिल होइए, ताकि मोदी-शाह की ओर से शुरू की गई नफरत और हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन किया जाए।’

उधर प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया, ‘यह देश एक साझा रिश्ता है, साझा ख्वाब है। इस मिट्टी को हमने मेहनतों के रंग से सींचा है। संविधान हमारी शक्ति है।’

उन्होंने कहा, ‘देश को ‘फूट डालो और राज करो’ की राजनीति से बचाना है। आइए, आज दोपहर 3 बजे से बापू की समाधि राजघाट पर मेरे साथ संविधान पाठ का हिस्सा बनिए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here