राहुल गांधी ने माना कि सुप्रीम कोर्ट ने नहीं कहा था कि ‘चौकीदार चोर है.’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने माना है कि सुप्रीम कोर्ट ने नहीं कहा था कि चौकीदार चोर है. सुप्रीम कोर्ट में राहुल गांधी ने हलफनामा दाखिल कर खेद प्रकट किया है.

0
57

राफेल मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट में अपना स्पष्टीकरण दाखिल किया. इस दौरान ‘चौकीदार चोर है’ वाले अपने बयान पर राहुल गांधी ने खेद जताया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने माना है कि सुप्रीम कोर्ट ने नहीं कहा था कि चौकीदार चोर है. सुप्रीम कोर्ट में राहुल गांधी ने हलफनामा दाखिल कर खेद प्रकट किया है.

राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान उत्तेजना में उनके मुंह से यह बयान निकल गया. राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सुप्रीम कोर्ट में अंडरटेकिंग दी है कि वो अपने भाषण या राजनीतिक बयानबाजी में कोर्ट के हवाले से कोई भी विचार, टिप्पणी या फाइंडिंग नहीं देंगे जब तक कि वो कोर्ट द्वारा रिकार्ड ना की गई हों. सुप्रीम कोर्ट इस मामले की कल सुनवाई करेगा.

राहुल गांधी ने कहा है कि कोर्ट की अवमानना करना कभी उनका मकसद या मंशा नहीं रही. उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार की उत्तेजना के दौरान राफेल रिव्यू मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया, उसी दौरान ये प्रतिक्रिया उनके मुंह से निकली थी. लेकिन विरोधियों ने उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर और गलत मंशा से प्रोजेक्ट किया है.

राहुल गांधी ने ये भी कहा कि उन्होंने मीडिया में ये बयान कि ‘सुप्रीम कोर्ट ने सहमति व्यक्त की है कि पीएम मोदी (PM Modi) ने राफेल सौदे में भ्रष्टाचार किया है’ उन बयानों के खिलाफ था जिनमें उनके विरोधी 14 दिसंबर से कहते आए हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने क्लीन चिट दी है. उन्होंने कहा कि “चौकीदार चोर है” का नारा लगातार उनके चुनावी अभियान का हिस्सा रहा है,

दरअसल, बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी की अवमानना याचिका पर सुनवाई करते हुए 15 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम ये साफ करना चाहते हैं कि उत्तरदाता ने जो कुछ सुप्रीम कोर्ट के हवाले से कहा है वो गलत है. कोर्ट ने ऐसी कोई टिप्पणी नहीं की थी और कोर्ट के सामने ऐसी टिप्पणी का कोई अवसर भी नहीं था क्योंकि उस वक्त सिर्फ दस्तावेज की स्वीकार्यता पर फैसला लेना था. सुप्रीम कोर्ट ने राहुल को 22 अप्रैल तक जवाब देने को कहा था और 23 अप्रैल को सुनवाई की बात कही थी.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here