Corona Impact: उड़ानें रद्द होने से घटी कमाई, कर्मचारियों के वेतन में कटौती करेंगी Air India – Indigo

सरकारी कंपनी एयर इंडिया और निजी क्षेत्र की इंडिगो का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय सेवाएं पूरी तरह ठप होने से राजस्व में बड़ी गिरावट आई है जिससे कुछ सख्त कदम उठाने पड़ रहे हैं।

0
1922

कोरोना संकट के बीच दुनियाभर में यात्राओं पर प्रतिबंध के कारण भारतीय विमानन कंपनियों की कमाई पर जबरदस्त असर पड़ा है। अब इसका खामियाजा कर्मचारियों को भी चुकाना होगा, क्योंकि सरकारी कंपनी एयर इंडिया (Air India) और निजी क्षेत्र की इंडिगो (Indigo) अपने कर्मचारियों के वेतन में 5 से 25 फीसदी तक कटौती करने जा रही हैं। कंपनियों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय सेवाएं पूरी तरह ठप होने से राजस्व में बड़ी गिरावट आई है जिससे कुछ सख्त कदम उठाने पड़ रहे हैं।

एयर इंडिया (Air India) से जुड़े सूत्रों ने बताया कि कंपनी का बोर्ड जल्द ही इस पर फैसला करेगा। पहले से ही घाटे में चल रही एयरलाइन को कोरोना संकट के बाद अपनी अंतरराष्ट्रीय सेवाएं (International Flights) पूरी तरह बंद करनी पड़ी हैं। इससे राजस्व में जबरदस्त गिरावट आई और कठोर फैसले के तहत कर्मचारियों का वेतन पांच फीसदी तक घटाना पड़ सकता है। एक अन्य सूत्र ने बताया कि कॉन्ट्रैक्ट पर रखे गए करीब 100 पायलट को फिलहाल हटाया जा रहा है। साथ ही एक अप्रैल से केबिन क्रू और पायलट के अलाउंस में भी कटौती की जाएगी।

Indigo के CEO रोनजॉय दत्ता ने बृहस्पतिवार को एलान किया कि उनके सहित शीर्ष कर्मचारियों के वेतन में पांच से 25 फीसदी तक कटौती की जाएगी। उन्होंने कहा, संकट में फंसे क्षेत्र को उबारने के लिए एक अप्रैल 2020 से बैंड ए और बैंड बी वाले कर्मचारियों के वेतन में कटौती की जाएगी। मैंने खुद अपने वेतन में 25 फीसदी कटौती करने को मंजूरी दी है। Cockpit Crew के वेतन में 15 फीसदी, बैंड डी (Cabin Crew) में 10 फीसदी और बैंड सी वाले के वेतन में पांच फीसदी कटौती की जाएगी।

कोरोना संकट के बीच वैश्विक मंदी के बढ़ते खौफ का असर शेयर बाजार पर लगातार चौथे दिन दिखा और निवेशकों की बिकवाली से सेंसेक्स 581 अंक व निफ्टी 205 अंक टूटे। बैंकिंग, मेटल और ऊर्जा सहित बीएसई के सभी स्टॉक में गिरावट का दिखी जिससे कारोबार के दौरान सेंसेक्स में 2,656 अंकों की बड़ी गिरावट आई। हालांकि, दोपहर बाद थोड़ा सुधार आया और आखिर में 581.28 अंक टूटकर 28,288.23 पर बंद हुआ। इसी तरह, निफ्टी भी 205.35 अंकों की गिरावट से 8,263.45 के स्तर पर आ गया। कारोबार के दौरान यह 7,900 के स्तर से नीचे चला गया था।

बड़ी गिरावट के कारण निफ्टी 38 महीने के निचले स्तर पर बंद हुआ है। इतना ही नहीं मेटल इंडेक्स 11 साल के निचले स्तर पर तो ऑटो इंडेक्स 6 साल के निचले स्तर पर पहुंच गए हैं। बजाज फाइनेंस में 10.25 फीसदी, मारुति में 9.85 फीसदी और एक्सिस बैंक में 9.50 फीसदी की गिरावट आई है।

बाजार में गिरावट से बृहस्पतिवार को निवेशकों के करीब पौने चार लाख करोड़ रुपये डूब गए। बीएसई पर सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण बुधवार के 113.53 लाख करोड़ रुपये से घटकर 109.76 लाख रुपये पर आ गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here