MAX Hospital पटपड़गंज के 33 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव, प्रशासन में हड़कंप

अस्पताल समय-समय पर अपने सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों और भर्ती मरीजों का कोविड टेस्ट (COVID Test) करा रहे हैं। इसी एक टेस्ट में MAX के 33 स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

0
1085

पूर्वी दिल्ली स्थित मैक्स अस्पताल पटपड़गंज (MAX Hospital) में 33 कोरोना संक्रमितों के मिलने से हड़कंप मच गया है। 400 bed से ज्यादा की सुविधा वाला ये अस्पताल जिले के बड़े अस्पतालों में से एक है।

अस्पताल से जब इस बारे में बात की गई तो उनका कहना था कि इस महीने की शुरुआत से उन्होंने प्रक्रिया शुरू की है कि समय-समय पर अस्पताल के सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों और भर्ती मरीजों का कोविड टेस्ट (COVID Test) करा रहे हैं। इसी एक टेस्ट में 33 स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

इनमें 2 डॉक्टर व 23 नर्सिंग स्टाफ व अन्य टेक्नीशियन और सहायक स्टाफ शामिल हैं। इन सभी को मैक्स साकेत (MAX Saket) के कोविड-ओनली में शिफ्ट कर दिया गया है। इसके साथ ही अस्पताल ने ये भी बताया कि मैक्स पटपड़गंज की 145 नर्सों को एक निजी हॉस्टल में 14 दिन के क्वारंटीन में रखा गया है।

अस्पताल ने बताया कि इस समय अस्पताल में कम मरीज हैं इसलिए मौजूदा स्टाफ से काम चलाया जा रहा है। 145 नर्सों के क्वारंटीन होने पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इनके संपर्क में आए लोगों की खोज की जा रही है।

दिल्ली के 14 अस्पतालों में 100 से ज्यादा डॉक्टर और नर्स समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में आ चुके हैं। रविवार को भी एम्स और सफदरजंग समेत पांच अस्पतालों में 14 स्वास्थ्यकर्मी संक्रमित मिले, जिनका उपचार चल रहा है।

AIIMS के कैंसर विभाग में कार्यरत एक नर्स व उसके दो बच्चे संक्रमित मिले हैं। सफदरजंग के प्रसूति विभाग में तैनात एक नर्स, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज (Lady Harding Medical College) में एक नर्स व सफाई कर्मचारी, बाबू जगजीवन राम अस्पताल (Babu Jagjeevan Ram Hospital) में 4 डॉक्टर संक्रमित मिले हैं। इनके अलावा रोहिणी स्थित डॉ. भीमराव आंबेडकर अस्पताल (Dr Bhim Rao Ambedkar Hospital) में 8 डॉक्टर व नर्स कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। नरेला में दिल्ली कैट्स कर्मचारी के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद उसे निगरानी केंद्र में रखा गया है।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली में अब तक 13 अस्पतालों से स्वास्थ्य कर्मचारियों के संक्रमित होने की जानकारी मिली थी, लेकिन अब इस सूची में एक और डॉ. भीमराव आंबेडकर अस्पताल का नाम जुड़ चुका है। इस अस्पताल में कुछ दिन पहले एक संक्रमित महिला मरीज की मौत हुई थी।

महिला जब भर्ती हुई थी उस दौरान वह कोरोना संदिग्ध नहीं थी, लेकिन दो से तीन दिन बाद लक्षण मिलने पर डॉक्टरों ने उसकी जांच कराई तो वह संक्रमित मिली। इसके बाद स्टाफ को क्वारंटीन कर दिया था। रविवार को नोएडा स्थित केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के केंद्र से रिपोर्ट मिलने के बाद 8 स्वास्थ्य कर्मचारियों को भी भर्ती कर लिया गया।

दिल्ली एम्स के निदेशक कार्यालय में एक शीर्ष अधिकारी क्वारंटीन हो चुके हैं। इनके ऑफिस में तैनात एक कर्मचारी के संक्रमित होने के बाद इन्हें क्वारंटीन किया गया है। यह पहला ऐसा मामला है जो सीधे तौर पर किसी अस्पताल के प्रबंधन में शामिल अधिकारियों से जुड़ा है।

सूत्रों का कहना है कि अस्पताल प्रबंधन की बैठकों में शीर्ष अधिकारी के मौजूद होने के कारण अब बाकी अफसर भी अपनी कोरोना जांच कराना चाहते हैं। ये लोग क्वारंटीन नहीं हैं, लेकिन उन्होंने खुद को होम क्वारंटीन कर लिया है। एम्स की लैब में जल्द ही यह अपनी जांच करा सकते हैं। 

पूर्वी दिल्ली के मैक्स अस्पताल में कार्यरत एक नर्स भी संक्रमित मिली है। विश्वास नगर स्थित न्यू संजय अमर कॉलोनी निवासी नर्स कोरोना संक्रमित मरीज के संपर्क में आने के बाद संक्रमित हुई है। उधर, केंद्र सरकार के डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में एक नर्स संक्रमित मिली है। इस नर्स की मां सफदरजंग अस्पताल में वरिष्ठ नर्सिंग अधिकारी हैं। यह दोनों कोरोना वायरस की चपेट में आ चुकी हैं। दोनों का उपचार सफदरजंग में चल रहा है। कुछ दिन पहले आरएमएल अस्पताल में एक कैंसर मरीज के संपर्क में आने से नर्स संक्रमित हुई थी। इसी से संपर्क में आने के बाद उसकी मां भी कोरोना की चपेट में आ गई थी। 

दिल्ली के राज्य कैंसर संस्थान, सफदरजंग, बाबू जगजीवन राम अस्पताल, डॉ. भीमराव आंबेडकर अस्पताल, महाराजा अग्रसेन अस्पताल में सबसे ज्यादा स्वास्थ्य कर्मचारी संक्रमित हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here