Coronavirus: भारत में कोरोना वायरस के खौफ से हवाई अड्डे पर 36 फीसदी यात्री घटे

Coronavirus के खौफ के चलते इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (IGI Airport) पर यात्रियों की संख्या में 36 फीसदी की गिरावट आ गई है।

0
859

दुनिया में तबाही मचा रहे कोरोना वायरस (Coronavirus) के खौफ के चलते इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (IGI Airport) पर यात्रियों की संख्या में 36 फीसदी की गिरावट आ गई है। आम दिनों में यहां रोजाना 25 हजार से अधिक यात्री पहुंचते थे। अब इनकी संख्या घटकर 16 हजार रह गई है। गुरुवार रात 12 बजे से 15 अप्रैल तक सभी देशों के टूरिस्ट वीजा निलंबित किए जाने के बाद से शुक्रवार से इनकी संख्या में और गिरावट दर्ज की जाएगी। गुरुवार को एयरपोर्ट परिसर के अंदर सभी कर्मचारी और 90 प्रतिशत यात्री मास्क पहने नजर आए।

IGI Airport पर कोरोना का खौफ साफ दिख रहा है। इसके चलते दिल्ली आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की संख्या में कमी आई है। जांच में कड़ाई बरती जा रही है। बाहर टैक्सी चालकों से लेकर एयरलाइनकर्मी तक मास्क पहने दिख रहे हैं।

एयरोब्रिज पर ही थर्मल स्कैनिक : अंतरराष्ट्रीय उड़ानों से पहुंचने वाले यात्रियों की एयरोब्रिज पर ही थर्मल स्कैनिंग की जा रही है। कैमरा, थर्मल स्कैनर, टीवी समेत अन्य उपकरण वहीं जांच के लिए लगे हैं। हवाई अड्डा स्वास्थ्य संगठन (एपीएचओ) और एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम (आईडीएसपी) में सभी यात्रियों का डाटा सुरक्षित किया जा रहा है। यात्रियों के लिए अलग से बैगेज बेल्ट, कस्टम और इमिग्रेशन जांच की व्यवस्था की जा रही है।

रेलवे स्टेशन के वेटिंग हॉल में भीड़ कम: पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन और आनंद विहार बस अड्डे के वेटिंग हॉल में गुरुवार को पहले के मुकाबले कम भीड़ दिखी। जगह-जगह कोरोना से बचाव के लिए हाथ धोने, मास्क पहने और दस्तानों का प्रयोग करने की घोषणाएं की जा रही थी। ट्रेन के डिब्बों में यात्री रुमाल बांधे बैठे दिखे। बसों में यात्री मास्क पहने हुए थे।

भारत में कोरोना वायरस से पहली मौत की पुष्टि हो गई है। कर्नाटक के कलबुर्गी शहर में दो दिन पहले कोरोना के जिस संदिग्ध बुजुर्ग की उपचार के दौरान मौत हुई थी, उसके नमूने की जांच में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। इससे देश में कोरोना से कुल संक्रमित मामलों की संख्या 76 हो गई है।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बी श्रीरामुलू ने गुरुवार को ट्वीट कर बताया कि मरीज का नमूना पहले ही ले लिया गया था और उसके कोरोना से संक्रमित होने की आज पुष्टि हुई। उन्होंने कहा कि इस मामले में भी संदिग्ध को अलग-थलग रखने और उसके संपर्क में आने वालों की जांच के पूरे प्रोटोकॉल का पालन किया गया।

कोरोना से संक्रमित इस मरीज की उम्र 76 साल थी। वह एक महीने सऊदी अरब में रहने के बाद 29 फरवरी को वापस लौटा था और अस्थमा का रोगी था। छह मार्च को पहली बार उसे सर्दी जुकाम के लक्षण होने पर उसने एक डॉक्टर को दिखाया था। नौ मार्च को तबियत ज्यादा बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया। मंगलवार रात को उसकी मौत हो गई थी और कोरोना से जुड़ी उसकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here