दिल्ली और मुंबई से लौटने वाले प्रवासी मजदूरों की वजह से देश के चार राज्यों में बढ़े कोरोना वायरस के मामले

दिल्ली और मुंबई से लौटने वाले प्रवासी मजदूरों की वजह से राजस्थान, कर्नाटक, बिहार और उत्तर प्रदेश में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है।

0
547

COVID-19 महामारी से बुरी तरह प्रभावित दिल्ली और मुंबई से लौटने वाले प्रवासी मजदूरों की वजह से राजस्थान, कर्नाटक, बिहार और उत्तर प्रदेश में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है। इन राज्यों के कई अधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी है।

Lockdown लागू होने की वजह से ये प्रवासी मजदूर बेरोजगार हो गए हैं और दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों से इन मजदूरों ने पैदल या साइकिल से घर लौटना शुरू कर दिया है। अप्रैल के आखिर में बसों और 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के संचालन के बाद से घर लौटने वाले मजदूरों की संख्या बढ़ गई है।

राजस्थान में एक मई से 759 प्रवासी कामगार COVID-19 संक्रमित पाए गए हैं। अधिकारियों ने कहा है कि इनमें से अधिकतर मुंबई से लौटे हैं। जयपुर, कोटा, बूंदी और गंगानगर को छोड़कर, राजस्थान के बाकी 29 जिलों में प्रवासी मजदूर पॉजिटिव पाए गए हैं, जिनमें भीलवाड़ा भी शामिल है, जहां लगभग 20 दिनों तक संक्रमण का कोई मामला सामने नहीं आया था। अभी तक 5,87,880 प्रवासी कामगार राजस्थान लौटे हैं और राज्य में संक्रमितों की संख्या 5,507 हैं।

राजस्थान के अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) रोहित के सिंह ने कहा कि उन्होंने 11 जिलों को रेड जोन के रूप में चिह्नित किया है क्योंकि वहां मामलों की संख्या में वृद्धि का डर है। इन इलाकों में आने वाले दिनों में अधिकांश प्रवासी मजदूरों के लौटने की उम्मीद है। 

उन्होंने कहा कि वे बाड़मेर, उदयपुर, बीकानेर, भीलवाड़ा, जोधपुर और राजसमंद जैसे जिलों में चिकित्सा बुनियादी सुविधाओं को अपग्रेड कर रहे हैं। सिंह ने कहा कि कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए अधिकांश मजदूर मुंबई और गुजरात से लौटे हैं।

भीलवाड़ा कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने कहा कि 42 प्रवासियों में बीमारी का पता चला है और उनमें से अधिकांश मुंबई से जिले में लौट आए हैं। मुंबई से लौटने वाले 30 लोग हैं, इसके बाद गुजरात से 10 और मध्यप्रदेश से लौटे दो कामगार शामिल है। 

जिला कलेक्टर काना राम ने कहा कि डूंगरपुर में 164 कोविड-19 मामलों में से प्रवासी मजदूरों की संख्या 159 है और उनमें से ज्यादातर मुंबई से लौटे हैं। उनके पाली समकक्ष, अंश दीप ने कहा कि उनके जिले के अधिकांश संक्रमित लोग भी मुंबई से यहां पहुंचे हैं, जहां उन्होंने सब्जी, फल और आइसक्रीम विक्रेताओं के रूप में काम किया है।

वहीं, बिहार में भी इसी प्रकार की स्थिति उत्पन्न हुई है। बिहार ने 5.30 लाख प्रवासियों (1.57%) में से 8,337 का परीक्षण किया था, जो सोमवार तक राज्य लौट आए हैं। 

बिहार के प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) संजय कुमार ने कहा कि कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए प्रवासी मजदूरों में से 26% दिल्ली से लौटे हैं। कुमार ने सोमवार को कहा कि अब तक परीक्षण किए गए प्रवासियों के 8,337 नमूनों में से 651 (8%) पॉजिटिव पाए गए हैं।

बिहार में कोविड-19 मामलों के लगभग आधे (1,392) प्रवासी थे, जो 3 मई से लौटे हैं। उनमें से 26% दिल्ली से आए हैं, इसके बाद पश्चिम बंगाल से 12%, महाराष्ट्र से 11%, हरियाणा से 9%  और गुजरात से 7% हैं। कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग प्रवासियों के आगमन के लिए बहुत चौकस रहा है और लगातार आंकड़ों का विश्लेषण कर रहा है। 

बिहार में रविवार तक 5,30,000 प्रवासी कामगार लौट चुके थे और 27 मई तक लगभग 10 लाख लोगों के लौटने की उम्मीद है।

कर्नाटक स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, राज्य में सोमवार को सामने आए 99 मामलों में से 66 मामले मुंबई से लौटे प्रवासियों से जुड़े हुए थे। कुछ मामले उन लोगों के थे, जो तमिलनाडु और गुजरात से लौटे हैं। कर्नाटक में कुल 1,692 मामले दर्ज हुए हैं और उनमें से आधे ऐसे हैं, जो 1 मई के बाद राज्य में वापस आए हैं।

उत्तर प्रदेश ने यह जानकारी नहीं दी है कि कितने प्रवासी मजदूर पॉजिटिव पाए गए हैं, लेकिन स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली और मुंबई से लौटने वाले अधिकतर लोगों में बीमारी का पता चला है। 

सहारनपुर जिले के एक अधिकारी ने बताया कि आधे से ज्यादा पॉजिटिव पाए गए कामगार दिल्ली से हैं और एक-चौथाई मुंबई से। सौभाग्य से, ये सभी क्वारंटीन में हैं और इनमें कोई लक्षण नहीं दिखाई दिए हैं। 

गुजरात के दक्षिणी जिलों में पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र से लौटे प्रवासियों की वजह से कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है। ओडिशा में कुल कोरोना मामलों का एक-तिहाई प्रवासी मजदूरों से संबंधित है, जो गुजरात के सूरत शहर से लौटे हैं। 

गुजरात के स्वास्थ्य सचिव जयंती रवि ने कहा कि डांग, नर्मदा और वलसाड जैसे जिलों में अधिकतर नए मामले उन लोगों में सामने आए हैं, जो महाराष्ट्र के मुंबई और पुणे शहर से लौटे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here