भंडारण अभाव से 32 हज़ार टन प्याज सड़ा, 120 रुपए प्रति किलो बिक रहा है प्याज़।

KK Ragesh ने शून्यकाल में कहा कि भारत दुनिया मे सबसे अधिक प्याज का निर्यात करता है लेकिन आज देश में प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं।

0
182

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के के. के. रागेश (KK Ragesh) ने राज्यसभा में प्याज (Onion) की आसमान छूती कीमतों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि देश मे ठीक से भंडारण के अभाव में 32 हज़ार टन प्याज सड़ गया और लोग 120 रुपए प्रति किलोग्राम प्याज खरीदने को मजबूर है जबकि सरकार मूक दर्शक बनी है।

रागेश (KK Ragesh) ने शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि भारत दुनिया मे सबसे अधिक प्याज का निर्यात करता है लेकिन आज देश में प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं। प्याज की कीमतें 120 रुपये किलो से अधिक हो गई हैं और सरकार चुपचाप बैठी है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह समस्या हर साल नवम्बर-दिसम्बर में पैदा होती है। इस बार अक्टूबर में यह समस्या पैदा हुई और एक नवम्बर को मंत्री ने बयान दिया कि देश में प्याज का उत्पादन 30 प्रतिशत कम हुआ। मंत्री ने यह भी बताया कि 32 हज़ार टन प्याज गोदाम में सड़ गए।

माकपा सदस्य रागेश (KK Ragesh) ने कहा कि नवम्बर से दिसम्बर हो गया। सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। उसने हस्तक्षेप क्यों नही किया। उन्होंने आरोप लगाया कि हर साल जमाखोरी और कालाबाजारी करने वाले लोग प्याज महंगे दाम में बेचते है लेकिन सरकार कार्रवाई नहीं करती बल्कि उनका संरक्षण करती है। उन्होंने सवाल उठाया कि सरकार इस मुद्दे पर गम्भीर क्यों नहीं है और वह हस्तक्षेप क्यों नहीं करती।

देशभर में खासकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीटी) में प्याज की बढ़ती कीमतों के विरोध में आम आदमी पार्टी (AAP) के सांसदों ने मंगलवार को प्याज की माला पहनकर प्रदर्शन किया। आप के दो राज्यसभा सदस्यों- संजय सिंह और सुशील कुमार ने बढ़ती कीमतों के लिए उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं जन आपूर्ति मंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके खिलाफ नारेबाजी की।

संसद परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने प्रदर्शन करते हुए आप नेताओं ने केंद्र से सवाल किया कि प्याज आखिर क्यों इतनी डरावनी होती जा रही है, और उपभोक्ताओं को इसके लिए ऊंची कीमतें चुकानी पड़ रही हैं। सिंह ने कहा, “इसमें कोई घोटाला प्रतीत होता है। हम यह मुद्दा संसद के अंदर भी उठाएंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here