CVC ने जारी रिपोर्ट में कहा, पहले से दी गई थी नीरव और मेहुल घोटाले की सूचना

0
309
CVC

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी घोटाला की एक और रिपोर्ट सामने आने के बाद पता चला है। साल 2017 में सीवीसी ने इस घोटाले की आशंका पहले से ही ज़ाहिर कर दी थी। वहीं इस बात का खुलासा होते ही प्रवर्तन निदेशालय ने पीएनबी सहित 10 बैंको से बैठक करने का निर्णय लिया है। इस बैठक में कुछ जरूरी फार्मों के अकाउंट्स की गंभीर चर्चा की जाएगी।

वहीं सीवीसी के मुख्य वी चौधरी ने बताया कि यह मीटिंग विनसम ग्रुप के द्वारा किए गए फ्रॉड के बारे में थी। इसके बाद जलूरी फर्म में फ्रॉड और गड़बड़ी बैंक को धोखा देने और सीवीओ से पूछताछ और सोने के आयात की चर्चा की गई। बैठक में कहा गया कि सबकुछ सामने होने के बाद भी घोटाले को नहीं रोका गया घोटाले की सूचना मिलने के बाद भी सभी एजेंसियों ने अपना काम ढंग से नहीं किया यदि काम को सही ढंग से किया होता तो घोटाला रोका जा सकता है इसके बाद यदि बैंक अपनी और से चूक नहीं करता तो नीरव मोदी और मेहुल चौकसी को समय रहते रोका जा सकता था।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here