Cyclone Fani updates: ओडिशा के पुरी में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश शुरू.

चक्रवाती तूफान फेनी के पूर्वी तट की ओर मुड़ने के कारण ओडिशा में 11 लाख लोगों को तटीय इलाकों से निकाला जा रहा है। यह देश का अब तक सबसे बड़ा आपदा पूर्व अभियान है।

0
158

Cyclone Fani Live Updates: चक्रवाती तूफान फेनी के पूर्वी तट की ओर मुड़ने के कारण ओडिशा में 11 लाख लोगों को तटीय इलाकों से निकाला जा रहा है। यह देश का अब तक सबसे बड़ा आपदा पूर्व अभियान है।

चक्रवात के शुक्रवार की दोपहर तक पुरी के नजदीक तट से टकराने की आशंका है। विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) के मुताबिक, तटीय इलाकों से निकालकर लोगों को 880 चक्रवात केंद्रों, स्कूल-कॉलेज की इमारतें और अन्य ठिकानों जैसे सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है। ओडिशा के 14 जिले-पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, भद्रक, गंजम, खुर्दा, जाजपुर, नयागढ़, कटक, गजपति, मयूरभंज, ढेंकानाल और क्योंझर के चक्रवात की चपेट में आने की संभावना है। वहीं आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में चक्रवात का प्रभाव पड़ने की संभावना है।

एसआरसी बीपी सेठी ने बताया कि चक्रवाती तूफान फेनी के उत्तर-उत्तर पूर्व की ओर मुड़ने और पुरी के निकट ओडिशा तट को 3 मई की शाम अधिकतम 170-180 किलोमीटर प्रतिघंटे हवा की रफ्तार से पार करने की संभावना है। इसकी रफ्तार 205 किलोमीटर प्रतिघंटे तक जा सकती है। चेन्नई, विशाखापतनम और मछलीपट्टनम में स्थित डॉप्लर मौसम रडार के जरिये चक्रवात का पता लगाया जा रहा है।

एक अधिकारी ने बताया कि किसी भी संभावित घटना से निपटने के लिए नौसेना, वायुसेना, सेना और तटरक्षक बल को हाई अलर्ट पर रखा गया है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), ओडिशा आपदा रैपिड एक्शन फोर्स (ओडीआएएएफ) और दमकल जवानों को प्रशासन की मदद के लिए संवेदनशीन क्षेत्रों में भेजा गया है।

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के एक हालिया बुलेटिन के मुताबिक, ओडिशा में पुरी से करीब 430 किलोमीटर दूर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम, पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी, आंध्र प्रदेश में विशाखापत्तनम से 225 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व और पश्चिम बंगाल के दीघा में 650 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में फेनी चक्रवात केंद्रित है।

नागरिक विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने गुरुवार को कहा कि चक्रवात फेनी से निपटने के लिए सभी हवाई अड्डा प्राधिकारियों को सावधान रहने को कहा गया है। प्रभु ने ट्वीट कर कहा कि सभी संबंधित प्राधिकार को सावधान करते हुए फेनी चक्रवात से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा गया है। भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण ने सभी तटीय हवाई अड्डों को सावधान किया है ताकि सभी एहतियात तत्काल बरती जाएं। भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण पूरे देश में 100 से अधिक हवाई अड्डों का प्रबंधन करता है।

इंडिगो ने ट्विटर पर यात्रा परामर्श जारी करते हुए कहा कि चक्रवात फेनी के कारण विशाखापत्तनम से आने और जाने वाले विमानों को गुरुवार को रद्द कर दिया गया। यात्रा विकल्प अथवा टिकट वापसी के लिए कंपनी के वेबसाइट पर संपर्क कर सकते हैं। वहीं विस्तारा एयरलाइन ने ट्वीट कर कहा कि गुरुवार और शुक्रवार को फेनी का असर संभवत: भुवनेश्वर और कोलकाता में रहेगा, इसलिए यह उन विमानों में टिकटों में बदलाव करने अथवा रद्द करने का शुल्क माफ कर रही है, जो इन दो हवाई अड्डों पर आयेंगे और यहां से जाएंगे।

फेनी के पहुंचने की आशंका के मद्देनजर एक वरिष्ठ वन्यजीव अधिकारी ने बालूखंड अभयारण्य में हिरणों की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई हैं। प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) ए के मोहपात्रा ने कहा कि जंगली जानवरों को इंसानों की तरह सुरक्षित स्थानों पर नहीं पहुंचाया जा सकता है, जिसकी वजह से अभयारण्य में लगभग 3,000 हिरणों के भाग्य को लेकर अनिश्चितता पैदा हो गई है। उनकी सुरक्षा को लेकर कोई विशेष योजना नहीं है। बालूखंड अभयारण्य बंगाल की खाड़ी के पास, ओडिशा के पुरी और कोणार्क शहरों के बीच स्थित है।

रेल मंत्रालय ने चक्रवात तूफान फेनी को देखते हुए अब तक नई दिल्ली-भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस सहित 223 ट्रेन 4 मई तक के लिए रद्द की गईं। प्रभावित ट्रेनों के टिकट रद्द करने पर यात्रियों को पूरा रिफंड दिया जाएगा। इसके अलावा रेलवे प्रभावित क्षेत्रों में फंसे हुए रेल यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए तीन विशेष ट्रेन चलाई जाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here