बटाला में पटाखा फैक्‍टरी में धमाका, 24 लोगों की मौत, 26 घायल।

पंजाब का बटाला शहर बुधवार को भीषण विस्‍फोट से दहल उठा। यहां एक पटाखा फैक्‍टरी में धमाका हो गया। इससे अब तक 24 लोगों की मौत हो गई है और 26 लोग घायल हैं।

0
335

Batala, Punjab: पाकिस्‍तान सीमा (Pakistan Border) के पास स्थित पंजाब का बटाला शहर बुधवार को भीषण विस्‍फोट से दहल उठा। यहां एक पटाखा फैक्‍टरी में धमाका हो गया। इससे अब तक 24 लोगों की मौत हो गई है और 26 लोग घायल हैं। सात घायलों को नाजुक हालत के कारण अमृतसर के गुरु नानक देव अस्‍पताल में भर्ती कराया गया। उसमें से एक ने दम तोड़ दिया।

हादसे के कारण फैक्‍टरी पूरी तरह से ध्‍वस्‍त हो गई और आसपास की इमारतों को भी नुकसान पहुंचा। घटनास्‍थल पर मलबा हटाने और राहत कार्य के दौरान भी धमाके हुए। इससे हड़कंप मच गया। पुलिस और एनडीआरएफ (NDRF) की टीमें वीरवार तड़के से फिर राहत और बचाव कार्य में जुट गई हैं। मलबे में अब भी कुछ लोगों के दबे होने की आशंका है।

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद, मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह, गुरदासपुर के सांसद सनी देयाेल सहित कई राजनेताओं ने हादसे पर दुख जताया है और पीडि़त लोगों के प्रति संवेदना जताई है। मुख्‍यमंत्री ने हादसे की न्‍यायिक जांच के आदेश दिए हैं। यह जांच बटाला के एसडीएम (SDM) करेंगे। सरकार ने मारे गए लोगों के परिवार वालों को दो-दो लाख रुपये की मदद देने का भी ऐलान किया है।

घटनास्‍थल पर 23 लोगों की मौत हो गई थी और 26 लोेग घायल हो गए थे। घायलों में सात की हालत अत्‍यंत गंभीर होने के कारण उनकेा अमृतसर ले जाया गया था और गुरु नानकदेव अस्‍पताल (Guru Nanak Dev Hospital) में भर्ती कराया गया था। वहां एक घायल ने देर रात दम तोड़ दिया।

धमाका इतना जबरदस्त था कि पांच किलोमीटर तक इसकी आवाज सुनाई दी, जिस कारण पूरा शहर दहल गया। धमाके की भयावहता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि फैक्टरी के पास खड़ी कार 300 मीटर दूर जाकर हंसली पुल में जा गिरी। कार सवार दो युवकों की जलकर मौत हो गई। अभी उनकी पहचान नहीं हो सकी है। वहीं, धमाके के बाद पास में स्थित विशाल मेगामार्ट सहित कुछ मकानों को भारी क्षति पहुंची है। जबकि करीब 200 मीटर क्षेत्र में घरों के शीशे टूट गए।

मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह (CM Amarinder Singh) ने घटना की मजिस्‍ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। इसके साथ ही पंजाब सरकार ने घटना के शिकार लोगों के लिए सहायता राशि की भी घोषणा की है। मुख्‍यमंत्री ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की सहायता देने का ऐलान किया। उन्‍होंने कहा कि गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये की सहायता दी जाएगी। मामूली रूप से जख्‍मी लोगों काे 25 हजार रुपये की मदद दी जाएगी।

घटना से पूरे क्षेत्र में अफरा-तफरी मच गई। घटनास्‍थल पर चीख-पुकार मची हुई है। सिविल अस्‍पताल जैसे शवों से पट गया है। धमाके से घटनास्थल के 150-200 मीटर के क्षेत्र में स्थित इमारतों और मकानों काे नुकसान पहुंचा है। जिस फैक्‍टरी में विस्‍फोट हुआ है उसके पास ही एक शॉपिंग मॉल भी है। इसके पास ही एक स्‍कूल भी है।

मलबा हटाने और इसमें दबे लोगों को निकालने के दौरान भी हादसा स्‍थल पर धमाके हुए। इससे हड़कंप मच गया। घायलों काे सिविल अस्‍पताल में दाखिल कराया गया है। घटनास्‍थल पर पुलिस और बचाव दल रात भर लगातार राहत कार्य में जुटे रहे। देर रात करीब दाे बजे बारिेश के कारण राहत कार्य रोकना पड़ा, लेकिन वीरवार तड़के से यह फिर शुरू हो गया।

मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने Tweet कर कहा है कि बटाला (Batala) में हुए विस्‍फोट में लोगों के मारे जाने पर मुझे बहुत दुख है। यह बेहद दुखद घटना है और डीसी व एसएसपी की निगरानी में राहत कार्य चल रहा है।

बताया जा रहा है कि फैक्ट्री मालिक के परिवार के पांच सदस्य भी मलबे में दबे हुए हैं। इनमें फैक्‍टरी मालिक और उसके बेटे की मौत होने की बात कही जा रही है। मौके पर बचाव और राहत कार्य जारी है। घटनास्‍थल पर डीसी सहित वरिष्‍ठ भर माैजूद हैं। एंबुलेंस तथा सिविल प्रशासन व पुलिस प्रशासन की टीमें राहत कार्य में लगी हुई हैं।

धमाका इतना जबरदस्त था कि घायल लोग उछल कर कई-कई फीट दूर जाकर गिरे। प्रत्यक्षदर्शियों से पता चला है कि सिलेंडर फटने के कारण यह धमाका हुआ। धमाका से पूरा क्षेत्र गूंज उठा और लोग दहशत के मारे घरों से बाहर निकल आए। घटनास्‍थल पर चीख-पुकार मची हुई थी।

यह फैक्‍टरी बटाला के हंस ली पुल के पास है। धमाका जब हुआ उस समय फैक्‍टरी में काफी संख्‍या में लोग काम कर रहे थे। मलबे के अंदर दबे लोगों को निकालने का काम देर शाम तक जारी रहा। मलबे के अंदर से 31 लोगों को निकाला गया है। देर शाम राहत कार्य में NDRF की टीम भी जुट गई।

मलबे के नीचे दबे लोगों को निकालने के लिए जेसीबी भी लगाए गए हैं। घटना की सूचना मिलने पर एंबुलेंस भी मौके पर पहुंचीं। पुलिस ने पूरे क्षेत्र को सील कर दिया है। डीसी विपुल और एसएसपी भी घटना की जानकारी मिलते ही पहुंच गए और मौके पर राहत व बचाव कार्य की निगरानी करे रहे।

घटना अगर कुछ समय पहले होती तो बेहद भयानक दृश्‍य हो सकता था और मृतकों की संख्‍या इससे भी अधिक होती। जिस फैक्‍ट्री में विस्‍फोट हुआ है उसके पास ही बच्‍चों का एक स्कूल भी है। छुट्टी के समय काफी बच्चे फैक्‍टरी के पास से होकर गुजरते थे।

राहत व बचाव कार्य के दौरान जेसीबी से मलबा हटाने के दौरान नीचे से 18 शव निकाले गए। हादसे में गंभीर रूप से घायल हुए 26 लोगों को उपचार के लिए बटाला और अमृतसर के अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। मृतकों और घायलों की संख्या अभी और बढऩे का की आशंका है। वीरवार तड़के से ही पंजाब पुलिस के अलावा एनडीआरएफ की टीमें बचाव और राहत कार्य में जुट गई है। रात में बारिश के कारण राहत और बचाव कार्य को राक दिया गया था। पुलिस ने दो किलोमीटर क्षेत्र को सील कर दिया है।

गुरदासपुर के सांसद सनी देयोल ने भी हादसे पर दुख जताया है। उन्‍होंने Tweet किया, ‘बटाला में पटाखा फैक्टरी में लगी आग से जान माल के नुकसान के बारे में जानकार बहुत दु:ख हुआ। जिला उपायुक्त से बात की, जिला प्रशाशन व NDRF की टीम मौके पर कार्यरत है।’ बताया जाता है कि सनी देयोल आज बटाला आएंगे।

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह व पूर्व सांसद सुनील जाखड़ वीरवार को बटाला पहुंचेंगे। सीएम ने हालात पर नजर रखने के लिए कैबिनेट मंत्री राजिंदर सिंह बाजवा की ड्यूटी लगाई है। बाजवा कल रात सिविल अस्पताल बटाला पहुंचे और घायलों का हाल जाना। उनके साथ सहकारिता मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा भी थे।

घटना का जायजा लेने पहुंचे विधायक लखबीर सिंह लोधीनंगल ने पीडि़त परिवारों से मिलकर उन्हें संवेदना दी। उन्होंने ‘बाबे दे ब्याह’ पर आतिशबाजी नहीं चलाने के लिए गुरुद्वारा कंध साहिब कमेटी को आदेश दिया।

डीजीपी पंजाब दिनकर गुप्ता की तरफ से इस मामले को लेकर बटाला एसएसपी के अधीन एक कमेटी का गठन किया। कमेटी में मुख्य अधिकारी एसएसपी बटाला उपेंद्रजीत सिंह घुम्मन होंगे। उनके एसपी व स्पेशल डीएसपी को तैनात किया गया। जांच रिपोर्ट एक हफ्ते के भीतर भेजने का आदेश जारी किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here