अब्दुल कलाम थे महान वैज्ञानिक, बढ़ाई भारत की स्वदेशी क्षमताएं – राजनाथ सिंह

41 वें DRDO निदेशकों के सम्मेलन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'एपीजे अब्दुल कलाम की 88 वीं जयंती पर उनका आभार व्यक्त करता हूं।

0
311

41 वें DRDO निदेशकों के सम्मेलन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘एपीजे अब्दुल कलाम (APJ Abdul Kalam) की 88 वीं जयंती पर उनका आभार व्यक्त करता हूं। वह एक महान वैज्ञानिक थे। अनुसंधान और मिसाइल विकास में उनके योगदान ने भारत को स्वदेशी क्षमताओं के लिए जाने जाने वाले देशों की सूची में ला दिया।’

इस दौरान आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत (Army Chief general Bipin Rawat) ने भी 41वें DRDO डायरेक्‍टर्स कांफ्रेंस को संबोधित किया।

आर्मी चीफ ने कहा, ‘ DRDO (Defence Research & Development Org) का प्रयास है कि तमाम जरूरतें देश में ही पूरी हो जाए। हमें पूरा विश्‍वास है कि अगली बार हम स्‍वदेशी हथियारों से लड़ेंगे और हमारी जीत होगी। भविष्‍य के लिए हम सिस्‍टम के प्रबंधन को देख रहे हैं। हमने साइबर, अंतरिक्ष, लेजर, इलेक्‍ट्रॉनिक और रोबोटिक टेक्‍नोलॉजीज के साथ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर भी ध्‍यान देना शुरू कर दिया है।

इस मौके पर राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) ने कहा,’ मॉडर्न वर्ल्‍ड में टेक्‍नोलॉजी और धन दो चीजें ऐसी हैं जो जियो पॉलिटिक्‍स को प्रभावित करेगी। इन दोनों में से अधिक महत्‍वपूर्ण है टेक्‍नोलॉजी। कौन जीतेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि इन दो चीजों को प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद किसने हासिल कर लिया है।’

पूर्व राष्‍ट्रपति अब्‍दुल कलाम आजाद की जयंती पर आज DRDO भवन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Raj Nath Singh), आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत, भारतीय वायु सेना प्रमुख मार्शल आरकेएस भदौरिया और नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here