दिल्ली तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों में हिंसक झड़प, कई गाड़ियां फूंकीं

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) परिसर में शनिवार दोपहर बाद दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच हुआ हंगामा और फिर हिंसा का मसला अब तक नहीं थमा है।

0
419

देश की राजधानी दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) परिसर में शनिवार दोपहर बाद दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच हुआ हंगामा और फिर हिंसा का मसला अब तक नहीं थमा है।

जबरदस्त हिंसा के बाद देर शाम कोर्ट के अंदर कई जज, सीनियर वकील और बार एसोसिएशन के लोग पुलिस अधिकारियों के साथ बातचीत कर मसला हल करने की कोशिश कर रहे हैं। आपस में बातचीत जारी है। वहीं, खबर मिली है कि कुछ वकीलों ने कड़कड़डूमा कोर्ट (Karkardooma Court) में भी हंगामा किया और दिल्ली पुलिस के बैरिकेड में आग लगा दी। वहीं, मौके पर पहुंची पुलिस ने बातचीत कर वकीलों का गुस्सा शांत किया और फिलहाल वहां शांति है।

इससे पहले दोपहर बाद दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट परिसर (Tis Hazari Court Complex) में पार्किंग के विवाद में वकीलों और पुलिस वालों के बीच जबरदस्त झड़प के बाद हिंसा हुई। इसी दौरान पुलिस की फायरिंग के बाद वकील नाराज हो गए और उन्होंने पुलिस की गाड़ियों में जमकर तोड़फोड़ की, इतना ही नहीं उन्होंने पीसीआर वैन समेत कई गाड़ियों में आग तक लगा दी।

इस बीच अडिशनल डीसीपी नार्थ हरेंद्र कुमार की पिटाई करने के बाद वकीलों ने उन्हें अंदर लॉकअप में बंद कर दिया, हालांकि, पुलिस ने उन्हें अंदर से छुड़ा लिया। डीसीपी मोनिका भारद्वाज के साथ भी बदसलूकी की खबर है।

मिली जानकारी के मुताबिक, फायरिंग और पिटाई से भड़के वकीलों ने परिसर में जमकर तोड़फोड़ की। इस दौरान जो भी वहां पुलिस की वर्दी में मिला उसकी वकीलों ने उसकी पिटाई की। यहां तक कि कुछ पुलिस अधिकारियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा है।

मिली जानकारी के मुताबिक, फायरिंग में जिस शख्स गोली लगी है उस वकील का नाम विजय वर्मा बताया जा रहा है। उसे तत्काल नजदीक के सेंट स्टीफेंस अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज किया जा रहा है।

वकीलों का कहना है कि दिल्ली पुलिस ने एक वकील को रोका और कहा कि लॉकअप के सामने गाड़ी क्यों लगाई। इसके बाद वकील को पीटा गया। जब बवाल हुआ तो गोली मार दी। एक राउंड गोली चलाई है। वकील अस्पताल में भर्ती है। वहीं, विरोध स्वरूप वकील सोमवार को काम नहीं करेंगे।

घटना को लेकर दिल्ली पुलिस का कहना है कि फायरिंग जैसी कोई घटना नही हुई है। पुलिस की गाड़ी जरूर जलाई गई है। बवाल किस बात पर हुआ? उसकी जांच की जा रही है। मिली जानकारी के मुताबिक, लॉक अप के बाहर तीसरी बटालियन की पुलिस और वकीलों के बीच झगड़ा हुआ। यह भी सूचना मिली है कि पार्किंग की लेकर झगड़ा हुआ। विवाद इतना बढ़ा कि पीसीआर वैन में भी आग लगा दी गई फिर पुलिसवालों को निशाना बनाया जाने लगा। बता दें कि तीसरी बटालियन कैदियों को

मिली जानकारी के मुताबिक, फायरिंग और अपने साथी विजय शर्मा को गोली लगने के बाद गुस्साए वकीलों ने हंगामा शुरू कर दिया है। बताया जा रहा है कि उन्होंने कई गाड़ियों में आग लगाने के साथ ही पुलिस के कुछ अफसरों की भी पिटाई की। स्थिति यह बन गई कि तीस हजारी कोर्ट परिसर में जो भी पुलिस वाला दिखा उसे दौड़ा-दौड़ाकर वकीलों ने जमकर पीटा। एसएचओ से हाथापाई हुई है। वकीलों की दहशत के चलते पुलिस वाले भाग खड़े हुए।

खबर आ रही है कि हिंसक रुख अख्तियार कर चुके वकीलों ने न्यूज़ चैनलों के कुछ कैमरे भी तोड़ दिए हैं। वहीं, कुछ मीडिया कर्मियों के मोबाइल फोन भी छीनकर तोड़ दिए गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here