दिल्ली की एक-चौथाई आबादी कोरोना को मात दे चुकी है, 23% से अधिक लोगों में मिले COVID-19 एंटीबॉडीज : Sero-survey

दिल्ली में औसतन 23.48 प्रतिशत लोगों में IgG एंटीबॉडी मौजूद है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) द्वारा किए गए अध्ययन से यह भी संकेत मिलता है कि बड़ी संख्या में संक्रमित व्यक्ति Asymptomatic रहे।

0
725

कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमण के प्रसार का पता लगाने के लिए राजधानी दिल्ली में किए गए सीरो सर्वे (Sero-survey) से पता चला है कि दिल्ली में औसतन 23.48 प्रतिशत लोगों में IgG एंटीबॉडी मौजूद है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) द्वारा किए गए अध्ययन से यह भी संकेत मिलता है कि बड़ी संख्या में संक्रमित व्यक्ति बिना लक्षण वाले (Asymptomatic) रहे। इस रिपोर्ट का यह अर्थ है कि दिल्ली की करीब एक-चौथाई आबादी में एंटीबॉडीज है यानी एक-चौथाई आबादी कोविड-19 वायरस के संपर्क में आ चुकी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) ने दिल्ली में सीरो-सर्वेलांस अध्ययन शुरू किया। एक सरकारी बयान में बताया गया है कि यह अध्ययन NCDC द्वारा दिल्ली सरकार के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के सहयोग से किया गया था। यह सर्वे 27 जून, 2020 से 10 जुलाई, 2020 तक किया गया था।

प्रयोगशाला मानकों के अनुसार, कुल 21,387 नमूने एकत्र कर उनके टेस्ट किए गए। इन टेस्ट्स ने सामान्य आबादी में एंटीबॉडी की उपस्थिति की पहचान करने में मदद की। यह टेस्ट एक डायग्नोस्टिक टेस्ट नहीं है, बल्कि केवल कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने वाले व्यक्तियों में SARSCoV-2 के कारण पिछले संक्रमण के बारे में जानकारी प्रदान करता है।

इसके लिए दिल्ली के सभी 11 जिलों के लिए सर्वे टीमों का गठन किया गया था। सर्वे के लिए चयनित व्यक्तियों से लिखित सहमति लेने के बाद उनके ब्लड के सैंपल लिए गए और फिर भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा अनुमोदित COVID KAVACH ELISA का उपयोग करके IgG एंटीबॉडी और संक्रमण के लिए उनका सीरा टेस्ट किया गया। ELISA टेस्ट का उपयोग करते हुए देश में किए गए सबसे बड़े सीरो-प्रचलन अध्ययनों में से एक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here