दिल्ली वासियों को भीषण गर्मी से राहत मिलने के आसार

दिल्ली वासियों को भीषण गर्मी से थोड़ी राहत मिलने के आसार दिख रहे हैं। मौसम विभाग ने रविवार शाम से ठंडी हवाएं चलने और गरज के साथ बिजली कड़कने की संभावना जताई है।

0
197

Weather Update: पूरे देश में गर्मी ने लोगों को परेशान कर रखा है। भीषण गर्मी की चपेट में एक तरह से पूरा भारत है। लोग मॉनसून (Monsoon) का इंतजार कर रहे हैं. पूरे भारत में भयंकर गर्मी का कहर जारी है। गर्मी के प्रकोप ने दिल्ली, यूपी, राजस्थान मध्य प्रदेश सहित कई राज्यों में लोगों का जीना मुहाल कर रखा है।

दिल्ली वासियों को भीषण गर्मी से थोड़ी राहत मिलने के आसार दिख रहे हैं। मौसम विभाग ने रविवार शाम से ठंडी हवाएं चलने और गरज के साथ बिजली कड़कने की संभावना जताई है। रविवार को राष्ट्रीय राजधानी (Delhi) का न्यूनतम तापमान 30.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया जो इस मौसम के औसत तापमान से तीन डिग्री सेल्सियस ज्यादा है। आर्द्रता का स्तर 64 फीसदी रिकॉर्ड किया गया।

मौसम विभाग के अधिकारी ने अनुमान जताया कि दिन में आसमान में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे और शाम के समय ठंडी हवाएं चलेंगी तथा गरज के साथ बिजली कड़केगी। उन्होंने बताया कि शहर का अधिकतम पारा 42 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है। ठंडी हवाएं चलने और गरज के साथ बिजली कड़कने से तापमान एक से दो डिग्री सेल्सियस कम हो सकता है। शनिवार को अधिकतम तापमान 43.5 डिग्री सेल्सियस, जबकि न्यूनतम पारा 27.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) समेत संपूर्ण मध्यप्रदेश में पिछले सात आठ दिनों से जारी भीषण गर्मी के कारण लोग बेहाल हो गए हैं। स्थानीय मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार भोपाल में तापमान 44 डिग्री के पार बना हुआ है। गर्म हवाओं और लू के थपेड़ों का आलम यह है कि सुबह से ही इसका अहसास होने लगता है, जो रात ग्यारह बजे के बाद तक जारी रहता है।

राजधानी भोपाल में दिन में चिलचिलाती धूप और गमीर् के कारण सड़कें सुनसान दिखायी दे रही हैं। आम नागरिक मुंह पर नकाब लगाकर या लू से बचने के अन्य उपाय करके ही दिन में निकलने का साहस दिखा पा रहे हैं। पूरे राज्य में भीषण गमीर् का यही आलम है।

इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, सागर, दमोह, छतरपुर, टीकमगढ़ और अन्य स्थानों पर भी दिन का तापमान 44 डिग्री से लेकर 46 डिग्री के बीच दर्ज किया जा रहा है। इस बीच अब सभी लोग राज्य में मानसून के आने के इंतजार के साथ ही मानसून पूर्व की गतिविधियों का इंतजार कर रहे हैं, ताकि गमीर् से राहत मिल सके। केंद्र का कहना है कि अभी कम से कम एक दो दिन और भीषण गर्मी और लू का प्रकोप बना रहेगा।

उत्तर प्रदेश की राजधानी (Lucknow) समेत अन्य कुछ क्षेत्रों में भीषण गमीर् से जूझ रहे लोगों को रात में हुई बूंदाबांदी और चल रही हवा के कारण गमीर् से कुछ निजात मिली है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में गर्मी कुछ कम होने का आसार जताया है। उप्र मौसम विभाग के निदेशक जे पी गुप्ता के अनुसार, ईरान से चलने वाली उत्तर-पश्चिमी हवाओं के कारण मार्च से जून के बीच में लू चलती है। मानसून पूर्व बारिश कम होने से राहत नहीं मिल पा रही है।

मौसम विभाग के अनुसार, चार जून के बाद गमीर् और लू से कुछ राहत मिलने की संभावना है। बंगाल की खाड़ी से आने वाली पुरवाई से पारा गिरेगा। पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक दो दिन में तेज हवाओं के साथ बूंदाबांदी हो सकती है। प्रदेश के तापमान में उतार-चढ़ाव का क्रम जारी है।

रविवार को लखनऊ का न्यूनतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम पारा 40 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। वहीं, कानपुर का न्यूनतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस जबकि अधिकतम 44 डिग्री सेल्सियस रहा। गोरखपुर का न्यूतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान 38 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here