Coronavirus- हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात को मंजूरी मिलने पर ट्रम्प ने की पीएम मोदी की तारीफ

ट्रंप ने कहा कि पीएम मोदी महान हैं और बहुत अच्‍छे हैं। कोरोना वायरस (Coronavirus) की मार से बेहाल अमेरिका के राष्‍ट्रपति ने कहा कि अमेरिका ने 29 मिलियन दवा की डोज खरीदी है।

0
881

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) दवा के निर्यात को मंजूरी मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) को महान नेता बताया है। ट्रंप ने कहा कि पीएम मोदी महान हैं और बहुत अच्‍छे हैं। कोरोना वायरस (Coronavirus) की मार से बेहाल अमेरिका के राष्‍ट्रपति ने कहा कि अमेरिका ने 29 मिलियन दवा की डोज खरीदी है। इसमें से ज्‍यादातर दवा भारत से मिलेगी। Fox News के इंटरव्यू में ट्रंप ने ये बातें कहीं।

बता दें कि अमेरिका में कोरोना वायरस (Coronavirus) का संकट तेजी से बढ़ रहा है। कोरोना मरीजों के इलाज के लिए ट्रायल के तौर पर भारत से दवा की सप्लाई की उम्मीद कर रहे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने ऐसा न होने पर जवाबी कार्रवाई की बात कही थी। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि अगर भारत हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) दवा सप्लाई करता है तो ठीक, वरना हम जवाबी कार्रवाई करेंगे। आखिर हम इसका जवाब क्यों नहीं देंगे। बता दें कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) दवा मलेरिया के लिए होता है, जिसका भारत प्रमुख निर्यातक रहा है।

दरअसल, कोरोना संकट से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) दवा के ऑर्डर की आपूर्ति करने के आग्रह पर भारत ने कहा है कि एक जिम्मेदार देश होने के नाते हमसे जितना हो सकेगा, हम मदद करेंगे। भारत ने अमेरिका को स्पष्ट तौर पर बताया कि हम अपने 1.30 अरब आबादी को कोरोना वायरस महामारी से सुरक्षित करने के बाद ही कोरोना वायरस के मरीजों और स्वास्थ्यकर्मियों के रोगनिरोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन (Hydroxychloroquine) की आपूर्ति करेंगे।

सरकारी सूत्रों की मानें तो, भारत महामारी के संभावित सबसे खराब स्थिति से निपटने के मद्देनजर अपनी आबादी के लिए दवा का स्टॉक कर रहा है। बाहर सप्लाई से पहले भारत के मरीज देश के लिए प्राथमिकता हैं। बता दें कि भारत हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के सबसे बड़े निर्माताओं में से एक है, जिसका उपयोग मलेरिया के के लिए किया जाता है। हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) मलेरिया की दशकों पुरानी दवा है।

पहले विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) ने 25 मार्च को इस दवा के निर्यात पर रोक लगा दी थी। हालांकि, डीजीएफटी ने कहा था कि मानवता के आधार पर मामले-दर-मामले में इसके कुछ निर्यात की अनुमति दी जा सकती है। अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण के तीन लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। अभी तक इस वायरस से अमेरिका में 8,000 से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here