Coronavirus- राष्ट्रपति ट्रंप ने WHO पर लगाए गंभीर आरोप, अमेरिका फंडिंग पर लगाएगा रोक

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह WHO को अमेरिका की ओर से दिए जाने वाले वित्त पोषण पर रोक लगाएंगे क्योंकि महामारी के दौरान WHO का सारा ध्यान चीन पर केंद्रित था।

0
707

कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से अमेरिका की स्थिति काफी गंभीर हो गई है। इस बीच, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) पर बड़ा आरोप लगाया है। ट्रंप ने कहा कि वह विश्व स्वास्थ्य संगठन को अमेरिका की ओर से दिए जाने वाले वित्त पोषण (Funding) पर रोक लगाएंगे। उन्होंने संगठन पर कोरोना वायरस महामारी के दौरान सारा ध्यान चीन (China) पर केंद्रित करने का आरोप लगाया।

डोनाल्ड ट्रंप (Donal Trump) ने व्हाइट हाउस में संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘हम WHO पर खर्च की जाने वाली राशि पर रोक लगाने जा रहे हैं। हम इस पर बहुत प्रभावशाली रोक लगाने जा रहे हैं। अगर यह काम करता है तो बहुत अच्छी बात होती। लेकिन जब वे हर कदम को गलत कहते हैं तो यह अच्छा नहीं है।’

ट्रंप ने आरोप लगाया कि उनको मिलने वाले वित्तपोषण का अधिकांश या सबसे बड़ा हिस्सा हम उन्हें देते हैं। जब मैंने यात्रा प्रतिबंध लगाया था तो वे उससे सहमत नहीं थे और उन्होंने उसकी आलोचना की थी। वे गलत थे। वे कई चीजों के बारे में गलत रहे हैं। उनके पास पहले ही काफी जानकारी थी और वे काफी हद तक चीन केंद्रित लग रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनका प्रशासन अमेरिका की ओर WHO को दिए जाने वाले वित्त पोषण पर विचार करेगा।

ट्रंप (Donal Trump) ने कहा, ‘हम उन्हें 5.8 करोड़ डॉलर से अधिक की धनराशि देते हैं। इतने वर्षों में उन्हें जो पैसा दिया गया है उसके मुकाबले 5.8 करोड़ डॉलर छोटा-सा हिस्सा हैं। कई बार उन्हें इससे कहीं ज्यादा मिलता है।’

इस बीच, सीनेट की विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष सीनेटर जिम रिच ने कोविड-19 से निपटने में WHO के तौर तरीकों की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि WHO न केवल अमेरिकी लोगों के लिए नाकाम हुआ बल्कि वह COVID-19 से निपटने में घोर लापरवाही के साथ विश्व के मोर्चे पर भी नाकाम हुआ।

करीब 24 सांसदों के एक द्विदलीय समूह ने WHO के महानिदेशक टेड्रोस गेब्ररेयेसुस के इस्तीफा देने तक WHO की निधि रोकने वाला प्रस्ताव लाने का मंगलवार को एलान किया। साथ ही COVID-19 से निपटने में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की नाकामी को छिपाने में संगठन की भूमिका की अंतरराष्ट्रीय आयोग से जांच कराने की भी मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here