सरकार राजनीतिक बदले का एजेंडा छोड़े और अर्थव्यवस्था संभाले : डॉ. मनमोहन सिंह

डॉ. मनमोहन सिंह ने कहा कि सरकार राजनीतिक बदले के एजेंडे को किनारे रखे और समझदार लोगों से बात कर हमारी अर्थव्यवस्था को नई राह दिखाए जो पैदा किए गए संकट में फंस गई है.

0
331

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह (Dr Manmohan Singh) ने देश की गिरती अर्थव्यवस्था पर चिंता जताई है. उन्होंने कहा कि पिछली तिमाही में GDP का 5 फीसदी पर आना दिखाता है कि अर्थव्यवस्था एक गहरी मंदी की ओर जा रही है.

डॉ. मनमोहन सिंह (Dr Manmohan Singh) ने कहा कि भारत के पास तेजी से विकास दर की संभावना है लेकिन मोदी सरकार (Modi Government) के कुप्रंधन की वजह से मंदी आई है. उन्होंने कहा कि यह परेशान करने वाला है कि मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में ग्रोथ रेट 0.6 फीसदी पर लड़खड़ा रही है. इससे साफ जाहिर होता है कि हमारी अर्थव्यवस्था अभी तक नोटबंदी और हड़बड़ी में लागू किए गए GST से उबर नहीं पाई है.

डॉ. मनमोहन सिंह (Dr Manmohan Singh) ने कहा कि भारत इस लगातार मंदी को झेल नहीं सकता है. इसलिए हम सरकार से गुजारिश करते हैं कि अपनी राजनीतिक बदले के एजेंडे को किनारे रखे और समझदार लोगों से बात कर हमारी अर्थव्यवस्था को नई राह दिखाए जो पैदा किए गए संकट में फंस गई है.

गौरतलब है कि इस साल की पहली तिमाही में आए GDP की दर 5 फीसदी पर सिमट गई है और माना जा रहा है कि देश एक बड़ी मंदी की ओर जा रहा है. हालांकि सरकार की ओर से कई उपाय किए गए हैं लेकिन इनको नाकाफी बताया जा रहा है. वहीं देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) का कहना है कि GDP में गिरावट का प्रमुख कारण वैश्विक मंदी है लेकिन हमारी विकास दर कई देशों की तुलना में ठीक है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here