मध्य प्रदेश: एक ही परिवार के चार लोगों की मौत, मरने वालों मे 12 दिन का नवजात भी शामिल

0
217

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के रायसेन (Raisen) में एक ही परिवार के चार लोगों की मौत की खबर आ रही है. पुलिस के अनुसार मरने वालों मे 12 दिन का नवजात भी शामिल है. पुलिस अधिकारी के अनुसार अभी तक की जांच में पता चला है कि इस परिवार में पति पत्नी समेत सास, उसका 11 वर्ष का साला और 12 दिन की नवजात बच्ची थी. घटना में अभी तक पति को छोड़कर उसकी पत्नी, सास, साले और 12 दिन की नवजात बच्ची की मौत हो चुकी है. जबकि युवक की हालत अभी स्थिर बनी हुई है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस मामले में अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इन सभी की मौत किस वहज से हुई है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस मामले के सभी पहलुओं से जांच कर रही है.

पीड़ित परिवार के पड़ोसियों से भी मामले को लेकर पूछताछ की जा रही है. इन सब के बीच पुलिस ने सभी शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम (Postmortem) के लिए भेज दिया है. जबकि युवक का इलाज अस्पताल में चल रहा है. गौरतलब है कि इस तरह का यह कोई पहला मामला नही है. इससे पहले झारखंड के हजारीबाग जिले से भी ऐसी ही एक घटना सामने आई थी. यहां भी एक ही परिवार के छह लोगों का शव मिल था. शुरुआती जांच में मौत की वजह कर्ज को बताई जा रही थी, लेकिन पुलिस ने परिवार की हत्या की आशंका से भी इंकार नहीं किया था.

बताया जा रहा था कि छह लोगों में दो लोगों ने फांसी लगाकर जान दी है. एक बच्चे की धारदार हथियार से हत्या की गई , जबकि एक बच्ची को जहर देकर मारा गया. एक महिला की गला दबाकर हत्या की गई है. पुलिस ने बताया था कि ऐसा लगता है कि परिवार के पांच लोगों की मौत के बाद सबसे अंत में एक पुरुष ने छत से कूदकर जान दे दी. पुलिस को अपार्टमेंट के कमरे से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है. ब्राउन लिफाफे पर लाल स्याही से लिखा है कि अमन को लटका नहीं सकते थे. इसलिए उसकी हत्या की गई.

इसके नीचे नीली स्याही से मोटे अक्षरों में सुसाइड नोट लिखा है और उसके नीचे लिखा था. बीमारी+दुकान बंद+दुकानदारों का बकाया न देना+बदनामी+कर्ज= तनाव (टेंशन)= मौत. घटना हजारीबाग के खजांची तालाब के निकट सीडीएम अपार्टमेंट की थी. परिवार के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति और उनकी पत्नी ने फांसी लगाकर अपने जीवन का अंत किया, तो धारदार हथियार से गला काटकर बच्‍चे की हत्‍या की.

संभवत: उसी ने अपनी पत्नी की गला दबाकर हत्या की. वहीं बेटी की मौत की वजह जहर बतायी जा रही थी. दो महिलाओं का शव एक कमरा में मिला है, जबकि दूसरे कमरे में तीसरी महिला और उनके पोते का शव मिला. इस घर के मुखिया की तीन साल की बेटी का शव बरामदे में पड़ा मिला. वहीं घर के मुखिया का शव फ्लैट के नीचे कम्पाउंड में मिला.

दिल्ली के बुरा़ड़ी में बीते दिनों एक परिवार के 11 लोगों को सामूहिक खुदकुशी का मामला सामने आया था. बुराड़ी के चुंडावत (भाटिया) परिवार के 11 सदस्यों में सबसे बुजुर्ग नारायण देवी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि उसकी मौत भी परिवार के अन्य 10 सदस्यों की तरह ही फांसी पर लटकने से हुई है. इससे पहले 10 लोगों की पोस्‍टमार्टम में भी गड़बड़ी की आशंका को खारिज करते हुए दिल्‍ली पुलिस का कहना था कि सभी 10 लोगों की मौत फांसी लगाने से हुई है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here