विजय माल्या का होगा भारत प्रत्यर्पण, लंदन कोर्ट ने दिया आदेश

0
379

करोड़ों रुपये का बैंक ऋण लेकर भागे शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत लाया जाएगा। लंदन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने सोमवार को प्रत्यपर्ण पर सुनवाई करते हुए उसके प्रत्यर्पण का आदेश दिया है। करीब एक साल लंबे चले ट्रायल के बाद कोर्ट सोमवार को अपना फैसला सुनाया। 62 वर्षीय पूर्व किंगफिशर एयरलाइंस के मालिक विजय माल्या की पिछले साल अप्रैल में प्रत्यर्पण वारंट (Extradation Warrant) पर हुई गिरफ्तार के बाद से जमानत पर हैं।

इससे पहले, मनीलांड्रिंग और नौ हजार करोड़ रूपये के बैंकिंग फर्जीवाड़े में फंसे करोबारी विजय माल्या (Vijay Mallya) ने सोमवार को इस बात को खारिज कर दिया कि उसने पैसे ‘चुराए’ हैं। इसके साथ ही, माल्या ने कहा कि उनकी तरफ से भारतीय बैंकों को पैसे वापस करने का प्रस्ताव झूठा नहीं है। माल्या ने ये बातें लंदन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट (Westminster Court) के बाहर कही।

वेस्टमिंस्टर कोर्ट के माल्या के प्रत्यर्पण को लेकर दिए गए फैसले के बाद ये फैसला यूके के गृह विभाग के पास जाएगा। वहां पर गृह सचिव साजिद जावेद इस फैसले पर अपना आदेश पास करेंगे। दोनों पक्षों को यह अधिकार होगा कि वे चीफ मजिस्ट्रेट कोर्ट के फैसले के खिलाफ यूके के हाईकोर्ट में अपील दायर करें।

माल्या ने बैकों को पैसे वापसी की बात पर जोर देते हुए कहा- “कर्नाटक हाईकोर्ट के सामने मेरी तरफ से पैसे वापस करने के प्रस्ताव का प्रत्यर्पण केस से कोई संबंध नहीं है। कोई भी फर्जी प्रस्ताव कर कोर्ट के कानून का अनादर नहीं कर सकता है। ईडी ने जिन संपत्तियों को कुर्क किया है वे फर्जी नहीं हो सकते।”

मुश्किलों से घिरे शराब कारोबारी विजय माल्या ने कहा- “उनके पास संपत्ति ऋण चुकाने के लिए काफी है और वे उसी पर अपने ध्यान केन्द्रित कर रहे हैं। उन्होंने कहा- मैं इस बात को खारिज करता हूं कि मैनें चुराए (पैसे) हैं।” उन्होंने बतायाकि उनकी लीगल टीम फैसले की समीक्षा करेगी और उसके बाद सही कदम उठाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here