Pulwama Update: सैयद अली शाह गिलानी, यासीन मलिक सहित 18 अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस।

सरकार की ओर से रविवार को आदेश जारी कर कहा गया था कि अब किसी भी अलगाववादी नेता को किसी भी स्थिति में सुरक्षा मुहैया नहीं कराई जाएगी।

0
459

जम्मू-कश्मीर (J&K) में पुलवामा हमले के बाद सरकार ने और कड़े तेवर अपनाते हुए बुधवार को 18 अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा (Security) वापस ले ली है। इनमें हुर्रियत (जी) प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी और जेकेएलएफ प्रमुख यासीन मलिक हैं। पिछले चार दिनों में सरकार 23 अलगाववादियों की सुरक्षा वापस ले चुकी है।

गृह विभाग के सूत्रों के अनुसार जिनकी सुरक्षा वापस ली गई है उनमें गिलानी व यासीन मलिक के अलावा आगा सैयद मौसवी, मौलवी अब्बास अंसारी, सलीम गिलानी, शाहिद उल इस्लाम, जफ्फर अकबर भट, नईम अहमद खान, मुख्तार अहमद वाजा, फारूक अहमद किचलू, मसरूर अब्बास अंसारी, आगा सैयद अब्दुल हुसैन, अब्दुल गनी शाह व मोहम्मद मुसादिक भट हैं।

सरकार ने आईएएस से इस्तीफा देने वाले शाह फैसल व पीडीपी नेता वाहिद पररे समेत १५५ राजनीतिक लोगों तथा समाजसेवियों की सुरक्षा हटा ली है। सूत्रों के अनुसार इन्हें मिली सुरक्षा की समीक्षा के दौरान यह पाया गया कि उनकी गतिविधियों तथा धमकियों के मद्देनजर दी गई सुरक्षा की अब जरूरत नहीं रह गई है। इस आधार पर इनकी सुरक्षा वापस ली जाए।

जिन अलगाववादियों तथा राजनीतिक लोगों से सुरक्षा हटाई गई है उनकी सुरक्षा में एक हजार पुलिसकर्मी तथा लगभग 100 गाडिय़ां लगी हुईं थीं। अब इनका इस्तेमाल पुलिस विभाग बेहतर सुरक्षा व्यवस्था के लिए कर सकता है।

रविवार को सरकार ने हुर्रियत (एम) प्रमुख मीरवाइज उमर फारूक, अब्दुल गनी भट, बिलाल लोन, हाशिम कुरैशी व शब्बीर शाह की सुरक्षा हटाई थी। सरकार की ओर से रविवार को आदेश जारी कर कहा गया था कि अब किसी भी अलगाववादी नेता को किसी भी स्थिति में सुरक्षा मुहैया नहीं कराई जाएगी। यदि उन्हें और कोई भी सुविधा प्रदान की जा रही होगी तो वह भी तत्काल प्रभाव से वापस ले ली गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here