पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड का साजिशकर्ता ऋषिकेश, धनबाद से गिरफ्तार

ऋषिकेश कुछ दिनों से यहां पहचान छिपाकर रह रहा था और कतरास में प्रदीप खेमका के पेट्रोल पंप में केयरटेकर के रूप में काम कर रहा था।

0
467

Gauri Lankesh Murder Case: त्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड (Gauri Lankesh Murder) में बेंगलुरु SIT ने गुरुवार को धनबाद के कतरास से आरोपित ऋषिकेश देवरिकर (Rushikesh Devdikar) उर्फ राजेश को गिरफ्तार कर लिया। बेंगलुरु पुलिस ने कतरास पुलिस के सहयोग से कतरास के भगत मोहल्ले में छापेमारी कर ऋषिकेश को दबोचा। ऋषिकेश कुछ दिनों से यहां पहचान छिपाकर रह रहा था और कतरास में प्रदीप खेमका के पेट्रोल पंप में केयरटेकर के रूप में काम कर रहा था। भगत मोहल्ला में वह पेट्रोल पंप के मालिक के ही घर में किराये पर रह रहा था।

बेंगलुरु पश्चिम के डीसीपी एमएन अनुचेत ने दैनिक जागरण से फोन पर बातचीत के दौरान बताया कि ऋषिकेश का नाम गौरी लंकेशहत्याकांड में अनुसंधान के दौरान आया था। उन्होंने कहा कि गौरी लंकेश की हत्या में कुल 18 लोगों के नाम अभी तक सामने आए हैं। इनमें अमोल काले की भूमिका प्रमुख थी। ऋषिकेश भी हत्या की साजिश में शामिल रहा है। बेंगलुरु पुलिस शुक्रवार को उसे ट्रांजिट रिमांड पर अपने साथ लेकर जाएगी।

बताया गया है कि कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम (कोका एक्ट) के तहत भी कुछ लोगों पर शिकंजा कसा जा रहा है। बेंगलुरु पुलिस ने ऋषिकेश की गिरफ्तारी मोबाइल टावर लोकेशन के आधार पर की है। छापेमारी के दौरान पुलिस ने उसके कमरे की तलाशी ली। कमरे से सनातन धर्म की कुछ पुस्तकों समेत कई सामान जब्त किए गए है।

टीम का नेतृत्व कर रहे इंस्पेक्टर पुनीत ने कहा के ऋषिकेश (Rushikesh Devdikar) को पुलिस पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के अलावा भी चार मामले में तलाश रही थी। उसके खिलाफ सामाजिक संस्था से जुड़े चार लोगों की हत्या का मामला दर्ज है। हत्या में शामिल एक दर्जन से अधिक लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। पिछले डेढ़ साल से इसकी खोज हो रही थी। इस बीच वह कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए झारखंड चला आया था।

ऋषिकेश महाराष्ट्र के औरंगाबाद का निवासी बताया जाता है। उसने अलग -अलग नाम से लोगों के बीच अपनी पहचान बनाई थी, ताकि पकड़ मेंं नही आ सके। कतरास के पंप मालिक सह सनातन संस्था के प्रमुख प्रदीप खेमका ने बताया कि बेरोजगारी और अपने को साधक बताकर वह नौकरी मांगने आया था। छह सात माह से उनके यहां वह नौकरी कर रहा था।

पत्रकार गौरी लंकेश (Gauri Lankesh) की हत्या का आरोपित ऋषिकेश देवडीकर को गुरुवार को धनबाद से गिरफ्तार किया गया। बेंगलुरु की एसआइटी ने धनबाद के कतरास में छापेमारी कर उसकी गिरफ्तार की। पुलिस ने उसके कमरे से सनातन धर्म की कई पुस्तक भी बरामद किया है। वह कतरास के एक पेट्रोल पंप पर पहचान छुपाकर रह रहा था। गौरी लंकेश की हत्या 5 सितंबर 2017 को बेंगलुरु में कर दी गई थी।

कर्नाटक की SIT टीम गुरुवार को कतरास पहुंची। पुलिस ने कतरास के भगत मोहल्ले में छापेमारी कर राजेश उर्फ ऋषिकेश देवडीकर (Rushikesh Devdikar) नामक युवक को हिरासत में लिया। पुलिस ने उसके कमरे की तलाशी ली। वहां सनातन धर्म की कई पुस्तक सहित सामान बरामद की। वह पिछले छह-सात माह से खेमका पेट्रोल पंप में केयर टेकर का काम कर रहा था और भगत मोहल्ला स्थित पंप मालिक के मकान में किराएदार के तौर पर रह रहा था।

पंप मालिक सह सनातन संस्था के प्रमुख प्रदीप खेमका ने बताया कि बेरोजगारी और अपने को साधक बताकर वह नौकरी मांगने आया था। छह सात माह से नौकरी कर रहा था। कार्यकाल के दौरान उसने किसी प्रकार की बात नहीं बतायी, जिससे उसपर जरा भी संदेह हो। उन्होंने जांच में पूरा सहयोग करने की बात कही। इधर, पुलिस उससे गहन तहकीकात कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here