बारिश से हाहाकार: ‘जलप्रलय’ से 24 मौतें, 24 जिलों में रेड अलर्ट।

चार दिनों से लगातार हो रही आफत की बारिश राजधानी पटना समेत पूरे सूबे पर कहर बनकर टूटा है। जनजीवन ठहर गया है।

0
257

Rain Update: चार दिनों से लगातार हो रही आफत की बारिश राजधानी पटना समेत पूरे सूबे पर कहर बनकर टूटा है। जनजीवन ठहर गया है। उत्तर बिहार, पूर्व बिहार समेत राज्य के हर क्षेत्र में हो रही तेज बारिश से स्थिति हर क्षण विकट होती जा रही है।

अब तक अलग-अलग जगहों पर हुई घटनाओं में 24 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें पटना में सात मौतें हुई हैं। इनमें भागलपुर में 12 और अन्य जिलों में पांच जानें गई हैं। हालत यह है कि राज्य की बड़ी से ज्यादा उफान छोटी नदियों में है। छोटी नदियां तीन दर्जन स्थानों पर लाल निशान से ऊपर बह रही हैं। वहीं, गंगा के घटने का रफ्तार तो थमा है, लेकिन, पुनपुन और सोन उफना गईं हैं। पटना में स्थिति और भी भयावह है। पटना में जलप्रलय जैसे हालात हैं, जिसकी वजह से लोग पानी पीने को तरसते दिखे।

झील में तब्दील हो चुके पटना में जलप्रलय की स्थिति है। सड़कों पर पांच से छह फुट तक पानी जमा हो गया है। बिजली, पानी, दूध और गैस की आपूर्ति ठप होने से हाहाकार जैसी स्थिति है। सबसे बुरे हालत राजेंद्र नगर, कंकड़बाग, पाटलिपुत्र इलाकों की है। यहां के लोग तीन दिनों से घरों में फंसे हैं। एनडीआरएफ व एसडीआरएफ की टीम फंसे हुए लोगों को निकालने में जुटी हुई है। दर्जनों परिवारों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया जा चुका है।
बारिश के कारण मगध विश्वविद्यालय की स्नातक तृतीय वर्ष और पाटलिपुत्रा विवि की बीएड की परीक्षाएं रद्द कर दी गई है। वहीं, पटना के स्कूलों में अगले आदेश तक छुट्टी कर दी गई है।

पटना, गया, भागलपुर और पूर्णिया सहित पूरे राज्य में अगले चौबीस घंटे तक जोरों की बारिश का पूर्वानुमान है। मौसम विभाग ने चार अक्तूबर तक रुक-रुककर बारिश होने का अनुमान जताया है। पिछले 36 घंटे में सबसे ज्यादा बारिश रोसड़ा में 290 मिमी हुई है।

मुजफ्फरपुर, दरभंगा, वैशाली, समस्तीपुर, सुपौल, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, सहरसा, मधेपुरा, भोजपुर, जहानाबाद, अरवल, पटना, नालंदा, शेखपुरा, बेगूसराय, बांका, लखीसराय, कटिहार, भागलपुर, मुंगेर, खगड़िया, शिवहर में अगले 24 घंटे के लिए रेड अलर्ट (Red Alert)जारी किया गया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को सरदार पटेल भवन में आपदा प्रबंधन विभाग स्थित अपने कक्ष में राज्य में मूसलाधार बारिश से उत्पन्न स्थिति पर उच्चस्तरीय बैठक की। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमलोग निरंतर काम कर रहे हैं। लोगों को जगहों से निकालना, पीने के पानी का इंतजाम, दूध की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये अलग-अलग जगहों पर इंतजाम कराया जा रहा है।

भारी बारिश के कारण पूर्व मध्य रेलवे को 13 एक्सप्रेस और एक दर्जन पैसेंजर ट्रेन रद्द करनी पड़ी। वहीं, एक दर्जन को डायवर्ट करना पड़ा। पटना एयरपोर्ट से दो विमानों को रविवार शाम डायवर्ट करना पड़ा। गो एयर (Go Air) की मुंबई पटना फ्लाइट खराब मौसम के कारण लखनऊ के लिए डायवर्ट की गई। वहीं, शाम पांच बजकर 25 मिनट पर स्पाइस जेट (Spice Jet) की दिल्ली पटना फ्लाइट बनारस के लिए डायवर्ट की गई। पटना एयरपोर्ट पर लो विजिबिलिटी की स्थिति बनी हुई है।

राज्य में लगातार हो रही बारिश से प्रयागराज में गंगा और यमुना एक सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही हैं। सिंचाई विभाग के मुताबिक एक दो दिन तक जलस्तर बढ़ने के आसार हैं। लगातार हो रही बारिश से जिला जेल पानी में डूब गया है। इसे देखते हुए रविवार को 45 महिलाओं समेत 500 बंदियों को आजमगढ़ शिफ्ट किया गया।

बदरीनाथ, केदारनाथ और हेमकुंड की चोटियों में दूसरे दिन भी हिमपात से कड़ाके की सर्दी शुरू हो गई। हेमकुंड साहिब में रविवार को न्यूनतम तापमान चार और बदरीनाथ में छह डिग्री दर्ज किया गया। उधर, शनिवार को बंद हुआ बदरीनाथ हाइवे रविवार को एक घंटे खुलने के बाद फिर से बंद हो गया। हाइवे बंद होने से करीब 500 यात्रियों को पांडुकेश्वर में रोक दिया गया है।

खराब मौसम और भारी बारिश के कारण राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का झारखंड दौरा प्रभावित हुआ है। राष्ट्रपति कोविंद तीन दिवसीय दौरे में शनिवार की शाम रांची पहुंचे थे। दौरे के दूसरे दिन रविवार को उन्हें सुबह 10 बजे गुमला के बिशुनपुर विकास भारती और 12 बजे देवघर स्थित बाबा धाम मंदिर पहुंचना था। लेकिन खराब मौसम के कारण दोनों कार्यक्रम रद्द हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here