‘हिंदू रक्षा दल’ ने JNU में छात्रों पर हुए हमले की ली जिम्मेदारी, पुलिस कर रही है दावे की जांच

हिंदू रक्षक दल के नेता पिंकी चौधरी (Pinki Chaudhary) ने छात्रों पर हुए हमले की 'पूरी जिम्मेदारी' ली है. इस हिंसा में 30 से ज्यादा छात्र जख्मी हो गए थे.

0
446

दिल्ली पुलिस हिंदू रक्षक दल (Hindu Raksha Dal) के उस दावे की जांच कर रही है, जिसमें जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में रविवार शाम को हुई हिंसा की जिम्मेदारी ली है. यह जानकारी सूत्रों के हवाले से सामने आई है.

हिंदू रक्षक दल के नेता पिंकी चौधरी (Pinki Chaudhary) ने छात्रों पर हुए हमले की ‘पूरी जिम्मेदारी’ ली है. इस हिंसा में 30 से ज्यादा छात्र जख्मी हो गए थे. ANI ने चौधरी के हवाले से लिखा है, ‘जेएनयू राष्ट्रविरोधी गतिविधियों का केंद्र है. हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते. हम JNU में हमले की पूरी जिम्मेदारी लेते हैं और हमला करने वाले हमारे कार्यकर्ता थे.’

कुछ लोगों का कहना है कि भाजपा के छात्रों के संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के खिलाफ आरोपों को छुपाने के लिए यह ग्रुप काम कर सकता है.

वहीं, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में छात्रों और शिक्षकों पर हुए हमले में शामिल लोगों की पहचान के लिए पुलिस वीडियो फुटेज और चेहरे पहचानने की प्रणाली का इस्तेमाल कर रही है. सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि पुलिस दोषियों की पहचान के लिए वीडियो फुटेज और चेहरे पहचानने की प्रणाली का इस्तेमाल कर रही है.

गौरतलब है कि JNU परिसर में रविवार रात लाठियों और लोहे की छड़ों से लैस कुछ नकाबपोश लोगों ने परिसर में प्रवेश कर छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला कर दिया था और परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था. बाद में प्रशासन को पुलिस को बुलाना पड़ा. जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष सहित हमले में कम से कम 34 लोग घायल हो गए थे.

वहीं, दिल्ली पुलिस ने रविवार शाम जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में हुई हिंसा से एक दिन पहले यूनिवर्सिटी के सर्वर रूम में कथित रूप से तोड़फोड़ करने के मामले में जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष ऐशी घोष और 19 अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. 3 जनवरी के मामले में भी एक FIR दर्ज की गई है, लेकिन उसमें घोष का नाम नहीं है. जबकि लेफ्ट विंग के छात्रों के नाम दर्ज है. 4 जनवरी को जो मारपीट और सर्वर रूम तोड़ने की FIR है उसमें ऐशी घोष और उनके 7-8 साथियों के नाम है. ये दोनों एफआईआर जेएनयू प्रशासन की तरफ से दर्ज कराई गई थी. जेएनयू में हुई हिंसा में कुछ छात्रों और शिक्षकों समेत 34 लोग जख्मी हुए हैं. इस हिंसा में ऐशी घोष को सिर में चोट आई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here