कैसे निबटें परीक्षा के भूत से, कैसे लाएं अच्छे मार्क्स ?

कई छात्र Exam के समय अपने पढाई के टाइम को बहुत बढ़ा देते है और कुछ अच्छे बच्चे और अधिक नंबर लाने के चक्कर में दिन भर किताबो से चिपके रहते है.

0
144

पढाई में आपकी चाहे कितनी भी दिलचस्पी हो या पढने का जूनून हो परन्तु परीक्षा (Exam) के वक्त अधिकांश छात्र तनाव (Stress) की स्थिति में आ ही जाते है. परीक्षा का थोड़ा बहुत तनाव तो Student को पढने के लिए प्रेरित करता है लेकिन इस तनाव की अधिकता आपके लिए नुकसानदायक हो सकती है.

कई छात्र Exam के समय अपने पढाई के टाइम को बहुत बढ़ा देते है और कुछ अच्छे बच्चे और अधिक नंबर लाने के चक्कर में दिन भर किताबो से चिपके रहते है. ऐसी स्थिति का परिणाम यह होता है की Student परीक्षा के दौरान तो Stress में रहता ही है, साथ ही वह Result आने तक भी चिंता में डूबा रहता है. किसी Student के लिए यह सब ठीक नहीं है.

परीक्षा से होने वाले तनाव के कारण भय व डर की स्थिति उत्पन्न होती है जिसे Exam Phobia कहा जाता है. ऐसी Situation में स्टूडेंट को कड़ी व पूरी मेहनत करने के बावजूद भी अनुकूल परिणाम नहीं मिल पाता और वह छात्र अगर high marks लाने वाला होता है तो उसके marks बहुत ही कम आते है. जो उसके Future को अन्धकार में ले जा सकता है. इसलिए आपके लिए यह जरुरी है की इस तनाव को खुद पर हावी न होने दे और इससे बचे.

परीक्षाओ के समय में तनाव होना आखिर इसका कारण क्या है
इसकी प्रमुख वजह है Perents का अपने बच्चे पर अधिक marks लाने का दबाव डालना, जो लगभग हर स्टूडेंट के तनाव का कारण बनता है. हर माता – पिता यह चाहते है की उनका बच्चा बहुत अच्छे marks लाये और उनका नाम रोशन करे.

अच्छे marks से उसे अच्छे कॉलेज में दाखिला मिल जायेगा या वो उसे कोई कोर्स कराये जिससे उसका भविष्य उज्ज्वल बने. इस तरह का दबाव बार – बार डालने से स्टूडेंट पर बहुत ज्यादा marks लाने का बोझ पड़ जाता है. जो उसको तनाव में धकेल देता है.

Exam के लिए ठीक तरह से तैयार न होना-
कई छात्र पूरे सालभर मौज – मस्ती करते है और जब परीक्षा की घडी आती है उस समय बहुत परेशान हो जाते है. वे परीक्षा के दिनों से कुछ समय पूर्व पढ़ना आरम्भ करते है जिससे उनको अपनी पढाई एक चट्टान नजर आती है. पढाई करने का दबाव उनको मानसिक तौर पर बीमार बनाने लगता है. जो छात्र पूरे सालभर थोड़ा – थोड़ा भी पढता है वह परिक्षा के समय चिंता से मुक्त रहता है वही उन छात्रो को इस समय बहुत कठिनाई होती है जिन्होंने पूरे साल कुछ भी पढ़ा नहीं होता. इसलिए Exam के लिए पूरी तरह Prepare न होना Students में तनाव का Reason होता है.

अच्छे नंबर लाने का दबाव-
यह दबाव हर उस छात्र को होता है जिसको अच्छे नंबर लाने होते है. आपने 3 इडियट्स का यह डायलॉग जरुर सुना होगा की ” खुद के Fail होने पर उतना दुःख नहीं होता है जितना दुःख अपने Best दोस्त के प्रथम आने पर होता है”. यह मानवीय प्रकृति है जो बिल्कुल सच है. अपनी Class में सबसे ज्यादा नंबर लाना या अपने शहर में सबसे ज्यदा marks लाना. मेरिट लिस्ट में खुद को शामिल करना. यह वह दबाव होता है जो स्टूडेंट खुद में लेता है.

परीक्षा के तनाव से कैसे बचे ?
चाहे परीक्षा के तैयारी का समय हो, परीक्षा का वक्त हो या उसके बाद रिजल्ट के इन्तजार का माहौल हो. इस Stress से बचना बहुत जरुरी है. इसलिए रिलैक्स स्टडी से ही अच्छे परिणाम की उम्मीद की जा सकती है. Relaxed रहे और Relaxed Study करे.

इसलिए पढाई और परीक्षा को लेकर खुद में डर पैदा न करे. पढाई में मेहनत करे और exam दे. नियमित रूप से पढ़ने की आदत डाले और रूटीन के अनुसार पढ़े. सिलेबस के अनुसार तैयारी बिल्कुल To The Point करे. इससे तैयारी भी अच्छी होगी और परीक्षा के समय बेवजह तनाव का सामना नहीं करना पड़ेगा.

आपको अपनी परीक्षा के शेड्यूल के अनुसार अपने पढाई का Time – Table बनाना होगा. किस तरह पढ़ना है उसकी Planing बना ले और फिर उस योजना के तहत दिनचर्या का हर हाल में पालन करे. अगर आपने बेहतर Time Management बनाई है तो इससे एग्जाम की तैयारी में सहूलियत होती है, जिससे आपको तनाव भी नहीं होगा.पढाई के लिए बेहतर माहौल बनाये

परीक्षा के दिनों में आपका पढाई के लिए ऐसा माहौल होना चाहिए, जहाँ आपको किसी भी प्रकार की बाधा न आये. आप किसी अलग कमरे में पढाई कर सकते है जहाँ कोई और न हो. आप टेलीविज़न की आवाज और Music से तथा अन्य किसी भी प्रकार के शोर – शराबे से दूर रहे जिससे आपको कोई Disturb न हो.

अगर आपने इसमें लापरवाही की तो आप मेहनत करने के बावजूद किसी विषय को गहराई से समझ नहीं पाएंगे. अगर आपका पढाई का माहौल अच्छा होगा तो तनाव भी आपसे दूर रहेगा.

आशावादी सोच हमारे अन्दर एक नयी स्फूर्ति पैदा करती है इसलिए एग्जाम से पहले अच्छे रिजल्ट के बारे में इमेजिन करे और उसे एन्जॉय करे. आप यह कल्पना करे की आपके क्लास में सबसे ज्यादा marks आये है और आप अगली क्लास में है. इसके अलावा आपके साथ पहले जो भी अच्छा हुआ, उसके बारे में विचार करे. इससे मन में आशा का संचार होता है और तनाव को काबू में रखने में मदद मिलती है. रोज एक नयी उम्मीद देने वाला विचार मन में अवश्य लाये.

परीक्षा के दौरान स्वाभाविक रूप से पढाई में तीव्रता आ जाती है. ऐसे में लम्बे समय तक स्टडी में लगे रहना थकान उत्पन्न करता है. इसलिए गहन अध्ययन के दौरान बीच – बीच में ब्रेक जरुर ले. साप्ताहिक व मासिक ब्रेक भी फायदेमंद है. इससे स्ट्रेस की मात्रा कम होती है और Freshness से की गई Study अधिक लाभ पहुंचती है.

ब्रेक के दौरान आप दोस्तों से बाते कर सकते है, गाना सुन सकते है, थोड़ा टहल सकते है और कुछ हल्का – फुल्का खा- पी सकते है. साप्ताहिक ब्रेक के तहत movie देखे या दोस्तों के घर जाये. परीक्षा ख़त्म होने के बाद Result के बारे में सोचते रहने के बजाय कही टूर पर निकल जाये या अपनी किसी नयी Hobby को विकसित करने का प्रयास करे.

Exam के दिनों में Tension का होना आम बात है. यह हर उस छात्र को होता है जो अपनी पढाई और परीक्षाओ के प्रति गंभीर होता है. इसलिए इस चिंता को दूर करने के लिए किसी ड्रग या दवा के सेवन से बचे. कई स्टूडेंट्स जो अपने Exam के तनाव को नहीं झेल पाते वे छात्र इस तनाव को कम करने के लिए सिगरेट, शराब, किसी दवा व अन्य नशीली चीजो का सेवन करते है जो उनके मानसिक और शारारिक स्वास्थय के लिए बहुत ही हानिकारक होता है. इसलिए आप इन चीजो से बचे.यह भी पढ़े: परीक्षा में सफलता पाने के लिए पढाई कैसे करे ?

परीक्षाओ के दौरान यदि किसी Subject या Topic को समझने में मुश्किल आये तो उस विषय के Expert से Advise जरुर ले. वह Expert आपके Teacher हो सकते है, आपके बड़े भाई – बहन हो सकते है या वो छात्र हो सकते है जिनकी इस विषय पर अच्छी पकड़ हो. अगर आपकी तैयारी अच्छी होगी तो Stress भी कम होगा. Study के दौरान अपने खान – पान को भूल जाना अक्सर Students की आदत होती है. इसका पढाई पर विपरीत असर होता है. जब सेहत ही सही नहीं होगी, तो भला पढाई कैसे अच्छी तरह से हो सकेगी ? इसलिए संतुलित खाए. इस दौरान जंक फ़ूड की अधिकता से बचे. ऐसे आहार न ले, जो जरुरत से ज्यादा तैलीय और वसायुक्त हो. एक बात और, नियमित अन्तराल पर खाना जरुर खाएं. पढाई के कारण खाना कतई न भूले.

Exam के दिनों में तनाव से निकलने का सबसे आसान तरीका है नियमित रूप से व्यायाम करना. व्यायाम आपको मानसिक रूप से व शारारिक रूप से फिट रखेगा. यह याद रखे कि शारारिक सक्रियता मानसिक तनाव को कम करने में मददगार होती है. बीच – बीच में रिलैक्स्ड होकर गहरी साँस लेना फायदेमंद होता है.

नींद का मनुष्य के स्वस्थ रहने से गहरा नाता है. आप किसी भी स्वस्थ व्यक्ति से पूछ ले आपको यह जरुर पता चल जायेगा की जो व्यक्ति स्वस्थ होता है वह अपनी नींद पूरी लेता है. मानसिक काम की अधिकता के दौरान न सिर्फ आराम बल्कि नींद की भी पर्याप्त जरुरत होती है. इसलिए परीक्षा के दौरान भी कम से कम 7 घंटे की नींद जरुर ले. आप नींद से किसी भी प्रकार का समझौता न करे.

परीक्षा के समय पर Positive Thinking रखना बहुत ही आवश्यक होता है. अगर हम अच्छा सोचते है तो अच्छा होता है और वही बुरा सोचते है तो बुरा होता है. इसलिए पॉजिटिव सोच रखना बहुत जरुरी है. यह आपको Negative Thoughts से तो बचाएगा ही साथ ही साथ आपको पढाई के तनाव से भी दूर रखेगा.

दोस्तों आप परीक्षाओ की ठीक से तैयारी करे, अगर एग्जाम की तैयारी आपने ठीक ढंग से की होगी तो अच्छे Marks आ ही जायेंगे. आपके लिए कुछ भी काम असंभव नहीं है, अगर आप उसे पूरे मन व लगन से करते है. दोस्तों आप यहाँ बताये गये टिप्स को पूरी दृढ़ता के साथ जरुर फॉलो करे यह आपको exam stress से दूर रखेंगे. किन्तु यह याद रखे की केवल योजना बनाने से ही बात नहीं बनती बल्कि उसके क्रियान्वन को लेकर दृढ – प्रतिज्ञ रहे.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here