राफेल होता तो परिणाम कुछ अलग होता: पी एम मोदी

आज राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Jet) की कमी महसूस हो रही है। यदि राफेल विमान हमारे पास होता तो परिणाम इससे कुछ अलग होता।

0
258

पाकिस्तान (Pakistan) में घुसकर की गई कार्रवाई और उसके लड़ाकू विमानों को खदेड़ने का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने शनिवार को कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि आज राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Jet) की कमी महसूस हो रही है। यदि राफेल विमान हमारे पास होता तो परिणाम इससे कुछ अलग होता। उन्होंने कहा कि राफेल पर पहले स्वार्थ नीति और अब राजनीति की वजह से देश का बहुत नुकसान हो रहा है। एक हिंदी न्यूज चैनल के कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि आज का भारत बदल गया है। यह नई नीति और रीति पर चल रहा है।

आज का नया भारत निडर, निर्भीक है। अब कोई भी हमें आंख नहीं दिखा सकता है। उन्होंने कहा कि जब आतंक के खिलाफ पूरी दुनिया हमारा साथ दे रही है, उस वक्त कुछ दल हम पर ही सवाल उठा रहे हैं। ये लोग विरोध और आलोचना करने के लिए स्वतंत्र हैं लेकिन मोदी विरोध में ये लोग इतना आगे बढ़ गए कि देश विरोध पर उतर आए हैं। इनके बयानों को पाकिस्तान देश के खिलाफ खासकर मसूद अजहर, हाफिज सईद जैसे आतंकियों की मदद में इस्तेमाल कर रहा है।

पाकिस्तान के अंदर घुसकर आतंकी ठिकानों को नष्ट करने पर मोदी ने कहा कि यदि दुश्मन के अंदर हमारे जवानों के पराक्रम का डर हो तो यह डर अच्छा है। जब आतंक के आकाओं में जवानों के शौर्य और भगोड़ों में कानून तथा संपत्ति जब्त होने का डर हो तो यह डर अच्छा है।

पीएम ने अगस्ता वेस्टलैंड मामले में आरोपी क्रिश्चियन मिशेल को देश में लाकर पूछताछ का उल्लेख कर गांधी परिवार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जब मामा के बोलने से बड़े-बड़े परिवार बौखला जाएं तो यह डर भी अच्छा है। जब भ्रष्ट नेताओं को भी जेल और कानून का डर सताए तो यह अच्छा है।

उन्होंने कहा कि 2014 लोकसभा चुनाव के बाद जब वह दिल्ली आए तो उन्हें बहुत सी बातों का पता और अनुभव नहीं था। एक तरह से यह उनके लिए वरदान ही साबित हुआ। उस वक्त राजनीतिक गलियारों के साथ ही न्यूज चैनलों में चर्चा होती थी कि उन्हें दुनिया में क्या चल रहा है, विदेश नीति क्या होती है, के बारे में कुछ नहीं पता है लेकिन हाल के दिनों के घटनाक्रम से पता चल गया होगा कि देश की विदेश नीति का आज क्या प्रभाव है।

पूर्ववर्ती यूपीए सरकार की तीखी आलोचना करते हुए पीएम ने कहा कि वे 10 फीसदी कमीशन पर काम करते थे जबकि हम 100 फीसदी मिशन समझकर काम करते हैं। अगर काम करना है तो पूर्णता में होना चाहिए न कि टोकनिज्म में।

अपनी सरकार सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए पीएम ने कहा कि हमारी सरकार ने लाखों गरीबों को गैस सिलिंडर दिया जबकि पिछली सरकार खैरात की राजनीति करती रही। इतना ही कांग्रेस ने तो 9 से बढ़ाकर 12 सिलिंडर देने की खैरात पर चुनाव लड़ा था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here