भारत ने LAC पर बढ़ाई अपनी ताकत, चीन के मंसूबों को नाकाम करने के लिए सेना तैयार।

फ्रंट-लाइन टैंक और पैदल सेना का मुकाबला करने वाले वाहनों को ऊंचाइयों पर तैनात कर दिया है। दोनों देशों के बीच जारी तनाव के बीच सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने यह जानकारी दी है।

0
383

भारतीय सेना ने चीन के पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) द्वारा वास्तिवक नियंत्रण रेखा (LAC) पर की जा रही घुसपैठ की कोशिशों को जवाब देने के लिए पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग त्सो के दक्षिणी तट पर अपनी मौजूदगी को और मजबूत कर लिया है। फ्रंट-लाइन टैंक और पैदल सेना का मुकाबला करने वाले वाहनों को ऊंचाइयों पर तैनात कर दिया है। दोनों देशों के बीच जारी तनाव के बीच सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने यह जानकारी दी है।

अधिकारियों ने कहा कि PLA अपने टैंक स्क्वाड्रन, पैदल सेना दस्ते और क्षेत्र के हजारों सैनिकों के साथ अपनी ताकत दिखाने के लिए परेड करा रहा है। आपको बता दें कि चीनी सैनिकों ने 29 अगस्त को भारतीय क्षेत्र को कब्जाने की कोशिश की थी, लेकिन भारतीय सेना ने उन्हें खदेड़ दिया।

नाम नहीं छापने की शर्त पर अधिकारी ने कहा कि चीनी सैनिकों ने इस क्षेत्र में 5,000 से 6,000 सैनिकों को तैनात किया है और सशस्त्र बल किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। उन्होंने यह भी बताया, “पीएलए ने 20-30 टैंक, आईसीवी और हजारों सैनिकों को स्पंगगुर क्षेत्र में तैनात किया किया।”

चीन ने पूर्वी लद्दाख में 50,000 सैनिक, 150 विमान, टैंक, भारी तोपखाने, मिसाइल और वायु रक्षा प्रणाली सहित बड़ी सैन्य संपत्ति यों की तैनात की है। भारत ने भी पड़ोसी देश की हर चाल को जवाब देने के लिए अपनी तैनाती की है। अधिकारियों ने कहा कि भारतीय सेना ने पोंगोंग त्सो के उत्तरी तट पर फिंगर 4 रिगलाइन पर पीएलए की तैनाती को ध्यान में रखते हुए प्रमुख ऊंचाइयों पर नियंत्रण कर लिया है। भारतीय सैनिक फिंगर 4 पर चीनी सैनिकों से मुश्किल से कुछ सौ मीटर की दूरी पर तैनात हैं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here