INX Media Case: चिदंबरम को दिल्ली हाईकोर्ट से नहीं मिली जमानत

दिल्ली हाई कोर्ट ने पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी.चिदंबरम की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। उन्हें अभी तिहाड़ जेल में ही रहना होगा।

0
495

दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी.चिदंबरम (P Chidambaram) की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। उन्हें अभी तिहाड़ जेल में ही रहना होगा।

इससे पहले न्यायमूर्ति सुरेश कैत ने चिदंबरम और प्रवर्तन निदेशालय (ED) की दलीलें सुनने के बाद जमानत याचिका पर आठ नवंबर को अपना आदेश सुरक्षित रख लिया था। चिदंबरम ने यह कहते हुए जमानत का अनुरोध किया था कि साक्ष्य दस्तावेजी प्रकृति के हैं और ये जांच एजेंसियों के पास हैं। इसलिए, वह उनमें छेड़छाड़ नहीं कर सकते।

वहीं, ED ने जमानत याचिका का जोरदार विरोध करते हुए दलील दी थी कि वह गवाहों को प्रभावित करने तथा धमकी देने की कोशिश कर सकते हैं।

चिदंबरम ने उन्हें CBI के मामले में जमानत देने के उच्चतम न्यायालय के 22 अक्तूबर के आदेश का जिक्र किया और इस बात उल्लेख किया कि यह कहा गया था कि भ्रष्टाचार के मामले में उनके खिलाफ साक्ष्य से छेड़छाड़ करने, विदेश भागने और गवाहों को प्रभावित करने का कोई सबूत नहीं है।

उच्च न्यायालय ने एक नवंबर को चिदंबरम की अंतरिम जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए तिहाड़ जेल अधीक्षक को उन्हें स्वच्छ वातावरण और स्वच्छ पेयजल, घर में पकाया गया भोजन, मच्छरदानी और मच्छर भगाने वाली मशीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया था।

ED ने चिदंबरम को 16 अक्तूबर को गिरफ्तार किया था। उन्हें CBI ने INX Media भ्रष्टाचार मामले में 21 अगस्त को गिरफ्तार किया था।

चिदंबरम के वित्त मंत्री पद पर रहने के दौरान INX Media group को 2007 में विदेशों से 305 करोड़ रुपये प्राप्त करने के लिए विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (FIPB) की मंजूरी में कथित अनियमियतताओं को लेकर सीबीआई ने 15 मई 2017 को यह मामला दर्ज किया था। इसके बाद, ED ने इस सिलसिले में 2017 में मनी लॉड्रिंग (Money Laundering) का एक मामला दर्ज किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here