जल्द छोटे रॉकेट बनाएगा इसरो, साथ देंगी यह कंपनियां

0
140
isro will make

इसरो हल्के रॉकिट बनाने और उन्हें बेचने के लिए कंपनियों का एक ग्रुप बनाने में जुट गया है। इसरो काम दूरी वाले रॉकेट्स सस्ते और किफायती दामों में बनाकर दुनिया भर में बेचना चाहता है ऐसे में पूरी दुनिया में राकेट की मांग बढ़ती जा रही है जिसकी वजह से भारतीय स्पेस एजेंसी इसका फायदा अन्य देशो के मुकाबले जल्द से जल्द उठाना चाहती है।

बता दें इन सभी कंपनियों को शामिल करने का नेतृत्व अंतरिक्ष कॉर्प करेगी जो इसरो की कमर्शल यूनिट है। इसमें स्टील की दिग्गज कंपनियों लार्सन ऐंड टुब्रो, गोदरेज एयरोस्पेस और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स को शामिल किया जाएगा। यह सभी कम्पनिया राकेट बनाने में इसरो का साथ देंगी और ऐसे रॉकेट्स का निर्माण करेंगी जिनका औसतन भार 500 किलो के सेटलाइट को अंतरिक्ष में स्थपित करने लायक हो।

इसरो के मौजूदा चेयरमैन कैलासावदिवु सिवन ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि इसरो अंतरिक्ष इंडस्ट्री को शामिल करने के मॉडल पर शुरुआत से ही काम कर रही है। हम चाहते हैं कि पहले हम एक या दो राकेट लांच करें और इसके बाद सभी चयनित कंपनियों को अपने साथ शामिल करें। बता दें इसरो ने जिन कम्पनियाँ को चुना है उन्होंने भी इस काम में अपना प्रदर्शन दिखाने में काफी रूचि ली है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अभी सैटेलाइट लॉन्च करने में जो लागत आती है, छोटे रॉकेट से उसकी लागत इसका 20 पर्सेंट होगी।’ 2019 तक ऐसे पहले रॉकेट को लॉन्च किया जा सकता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here