राज्यपाल के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे कांग्रेस समेत जेठमलानी

0
392
SUPRE,E C0

पिछले कल शपथ ग्रहण के के दौरान रिसोर्ट के बाहर जमकर हंगमा होने के बाद आधी रात विपक्षी पार्टी द्वारा सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे खुलवाए गए। ऐसे में राज्यपाल ने बीजेपी को 15 दिन में बहुतमत के साथ अपनी सरकार तैयार करने की बात कही थी जिसके बाद विपक्षी पार्टियों ने जमकर हंगमा किया था। लेकिन अब कर्नाटक चुनाव और बीजेपी की सरकार के विरोध में जेठमलानी भी कांग्रेस के साथ मिलकर इस विरोध प्रदर्शन में कूद पड़े हैं। साथ ही जेठमलानी का कहना है कि बीजेपी अपने पद और सत्ता के जरिए यह सांविधानिक अधिकार का दुरूपयोग है।

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा ,न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति त धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने आज राम जेठमलानी की दलीलों पर विचार किया। पीठ ने कहा कि तीन सदस्यीय विशेष पीठ ने आज सवेरे तक इस मामले पर सुनवाई की है और अब यह पीठ कल फिर सुनवाई करेगी।

बता दें सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने जेठमलानी से कहा कि वह न्यायमूर्ति ए.के.सिकरी की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की तरफ से तीन सदस्यीय विशेष खंडपीठ के समक्ष 18 को अपनी दलीलें रख सकते हैं जब कांगेस पाटी की याचिका पर आगे सुनवाई होगी। वरिष्ठ अधिवक्ता ने इस मामले मे अपना पक्ष पेश करने की अनुमति मांगते हुए कहा कि राज्यपाल का आदेश सांविधानिक अधिकार का घोर दुरूपयोग है और यह उस सांविधानिक पद का असम्मान किया है जिस पर वह आसीन है। उन्होंने कहा कि वह किसी पार्टी के पक्ष या विरोध में नहीं आये हैं बल्कि वह राज्यपाल के इस असंवैधानिक फैसले से आहत हुए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here