केरल में बारिश और बाढ़ से हालात बेकाबू, अबतक 39 लोगों की मौत, 100 करोड़ के पैकेज का ऐलान

0
220

केरल में बाढ़ के हालात में थोड़े सुधार के बावजूद रविवार को हुई बारिश से फिर मुश्किल बरकरार है। बाढ़ के कारण राज्य में मृतकों की तादाद अब 39 पहुंच गई है। रविवार को इदुक्की में 20.86 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। वहीं, बाढ़ की वजह से राज्य में 8 हजार करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ है। रविवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में केरल में इस तरह की बाढ़ कभी नहीं आई है।

रविवार को तेज बारिश शुरू होने के बाद निचले इलाके में रहने वाले लोगों को फिर ऊपरी इलाकों में आने को कहा गया है। 8 अगस्त से केरल में बिगड़े मौसम के बाद बारिश-बाढ़ से 39 लोगों की मौत हुई है। वायनाड में एक घर गिरने से 58 साल की महिला की मौत हो गई। वहीं छह लोग लापता बताए जा रहे हैं।

वायनाड के कलेक्टर एपी अजय कुमार ने सोमवार को सभी स्कूल कॉलेजों में छुट्टी की घोषणा की है। पोथुंडी डैम के सभी तीन गेट खोल दिए गए हैं। इसके साथ ही जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर होने के बाद चुल्लियार, वालायार और मीनकारा जलाशयों के गेट खोलने की अंतिम चेतावनी जारी की गई है। वहीं, इदुक्की जलाशय का जलस्तर लगातार दूसरे दिन घटा है। रविवार को 2400.68 फीट से घटकर इसका जलस्तर 2398.68 फीट पहुंच गया।

विभिन्न इलाकों में बनाए गए राहत शिविरों में 60,000 से अधिक लोगों को शिफ्ट किया गया है। सेना के 10 कॉलम, मद्रास रेजिमेंट की एक इकाई के साथ नौसेना, वायुसेना और एनडीआरएफ के जवानों को बुरी तरह से प्रभावित जिलों कोझिकोड, इदुक्की, मलप्पुरम, कन्नूर और वायनाड आदि में राहत एवं बचाव कार्यों में लगाया गया है।

रविवार को एक बार फिर तेज बारिश होने से बाढ़ और भूस्खलन प्रभावित क्षेत्रों में राहत अभियान प्रभावित हुआ है। हालांकि, अधिकारियों ने बताया कि इदुक्की और इदमलयार जलाशयों में जलस्तर कम होने से कुछ राहत मिली है। इस बीच केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बाढ़ प्रभावित दो जिलों का हवाई सर्वे किया।

राजनाथ सिंह ने माना कि केरल में हालात काफी खतरनाक हैं। केंद्र सरकार ने राज्य को 100 करोड़ की मदद देने का ऐलान किया है। हालांकि केरल के सीएम ने इससे कहीं ज्यादा की डिमांड रख दी है। सीएम पी विजयन ने रविवार को बताया कि बाढ़ से करीब 20 हजार घर पूरी तरह तबाह हो गए हैं। सीएम ने बताया कि राज्य पीडब्ल्यूडी की करीब 10 हजार किलोमीटर सड़क खराब हुई हैं।

बाढ़ से उत्पन्न चुनौतियों से निपटने के लिए केंद्र की ओर से राज्य को हरसंभव मदद उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। राजनाथ सिंह ने इडुक्की और एर्नाकुलम जिलों में हवाई सर्वे के बाद एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात की। गृहमंत्री ने कहा, ‘केरल में स्थिति बहुत गंभीर है। बाढ़ के कारण पैदा हुए संकट से निपटने के लिए केंद्र हर संभव मदद देने को तैयार है। केरल अभूतपूर्व बाढ़ की स्थिति का सामना कर रहा है। यह अभूतपूर्व है क्योंकि स्वतंत्र भारत के इतिहास में केरल में इस तरह की बाढ़ कभी नहीं आई है।’

इस बीच केरल के सीएम पी विजयन ने कहा है कि शुरुआती आकलन के मुताबिक बाढ़ से 8316 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि तात्कालिक राहत और पुनर्वास के लिए 820 करोड़ रुपये के अतिरिक्त और 400 करोड़ रुपये की मांग की गई है।

एनडीआरएफ के एक अफसर कन्हैया कुमार ने एक पुल पर दौड़कर एक बीमार बच्ची को बचाया, जिसके कुछ पल बाद पुल बाढ़ के पानी में डूब गया। सोशल मीडिया पर इस अफसर की बहादुरी का विडियो वायरल हुआ है। बचाव कार्य में लगे कन्हैया ने इडुक्की बांध के पास चेरूथोनी पुल की दूसरी ओर एक बच्ची को फंसा देखा था।

इडुक्की जिले में पालतू कुत्ते ने एक परिवार की जान बचा ली। मोहनन पी. का घर कांजीकुझी गांव में है। गुरुवार रात करीब 3 बजे उनका पालतू कुत्ता जोर-जोर से रोने और भौंकने लगा। परिवार को गड़बड़ी की आशंका हुई। जब उन्होंने बाहर निकलकर देखा तो पता चला कि उनके घर के बगल में लैंडस्लाइड हुई है। मकान का एक हिस्सा टूट गया और बाकी भी ढहने वाला है। परिवार वाले जल्दी से सबकुछ छोड़कर वहां से भागे। इस तरह पूरे परिवार की जान बच गई।

निरंजन कुमार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here