चारा घोटाला: दुमका घोटाले में “यादव” फिर दोषी , “मिश्रा” फिर बरी

0
339
Lalu

चारा घोटाला के दुमका मामले में सोमवार को फैसले का दिन है। सीबीआइ की की विशेष अदालत ने आज पूर्व मुख्‍यमंत्री डॉ. जगन्‍नाथ मिश्र को सहित 12 आरोपितों को बरी कर दिया, जबकि लालू प्रसाद यादव सहित शेष सभी को दोषी करार दिया गया। बीमारी की वजह से जगन्‍नाथ मिश्र ह्वील चेयर पर अदालत पहुंचे तो लालू प्रसाद को एंबुलेंस से अदालत लाए गए। लालू इसके पहले चारा घोटाला के तीन मामलों में दोषी करार दिए जा चुके हैं। वे रांची के होटवार जेल में सजा काट रहे हैं। लालू को भारतीय दंड सहिता की जिन धाराओं में दोषी करार दिया गया है, वे गंभीर हैं। ऐसे में उन्‍हें बड़ी सजा की संभावना है। अब सजा के बिंदु पर 21 मार्च को सुनवाई होगी।

सियासी बयानबाजी का दौर शुरू
सभी आरोपितों को दोपहर 12 बजे तक हाजिर होन का निर्देश दिया गया था। अदालत परिसर व आसपास राजद समर्थकों की भीड़ जमा रही। लालू यादव को दोषी करार दिए जाने के बाद उनमें निराशा देखी गई। अदालत के फैसले के बाद राजनीतिक प्रतिक्रियाओं का आना भी जारी है।
राजद के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि चारा घोटाला के एक ही तरह के मामले में जगन्‍नाथ मिश्र को राहत, लेकिन लालू को दोषी करार दिया गया है।

इन 31 अभियुक्तों पर आया फैसला 
– लालू प्रसाद, पूर्व मुख्यमंत्री : दोषी
– डॉ. जगन्नाथ मिश्रा, पूर्व मुख्यमंत्री : बरी
– ध्रुव भगत, तत्कालीन अध्यक्ष, लोक लेखा समिति : बरी
– डॉ. आरके राणा, पूर्व सांसद : बरी
– जगदीश शर्मा, तत्कालीन अध्यक्ष लोक लेखा समिति : बरी
– विद्यासागर निषाद, पूर्व मंत्री : बरी
– अधीप चंद्र चौधरी, कमिश्नर आइटी : बरी
– अरुण कुमार सिंह, पार्टनर विश्वकर्मा एजेंसी: दोषी
-अजित कुमार शर्मा, प्रोपराइटर लिटिल ओक : दोषी
-विमल कांत दास, तत्कालीन वेटनरी ऑफिसर : दोषी
– बेक जूलियस, तत्कालीन सचिव :
– बेनू झा, प्रोपराइटर लक्ष्मी इंटरप्राइजेट :
-गोपी नाथ दास, प्रोपराइटर, राधा फार्मेसी :
– केके प्रसाद, तत्कालीन वेटनरी ऑफिसर :
– लाल मोहन प्रसाद, प्रोपराइटर आरके एजेंसी : बरी
– मनोरंजन प्रसाद, तत्कालीन वेटनरी ऑफिसर : दोषी
– एमसी सुवर्णों, तत्कालीन डिविजनल कमिश्नर : बरी
– महेश प्रसाद, तत्कालीन सचिव
– एमएस बेदी, प्रोपराइटर सेमेक्स क्रायोजेनिक्स
– नरेश प्रसाद, प्रोपराइटर वायपर कुटीर
– नंद किशोर प्रसाद, तत्कालीन वेटनरी ऑफिसर
-ओपी दिवाकर, तत्कालीन क्षेत्रीय निदेशक : दोषी
– पंकज मोहन भुई, तत्कालीन एकाउंटेंट
– पितांबर झा, तत्कालीन वेटनरी ऑफिसर
-पीसी सिंह, तत्कालीन सचिव
– रघुनाथ प्रसाद, तत्कालीन वेटनरी ऑफिसर
– राधा मोहन मंडल, तत्कालीन वेटनरी ऑफिसर
-राजकुमार शर्मा, ट्रांसपोर्टर : दोषी
– आरके बगेरिया, ट्रांसपोर्टर
– सरस्वती चंद्रा, प्रोपराइटर, एसआर इंटरप्राइजेज
– एसके दास, तत्कालीन असिस्टेंट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here