Coronavirus: बिहार में 31 जुलाई तक फिर से Lockdown

16 जुलाई से लगने जा रहे Lockdown के दौरान इमरजेंसी सेवा को छोड़कर परिवहन सेवा, शॉपिंग मॉल, धार्मिक स्थल पूरी तरह से बंद रहेंगे।

0
759

बिहार में 16 जुलाई से लेकर 31 जुलाई तक पूर्ण Lockdown लगा दिया गया है। मंगलवार को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में इस पर सहमति बनी है। उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी (Sushil Modi) ने ये जानकारी दी है।

अभी तक जो प्रारंभिक जानकारी मिल रही है उसके अनुसार 16 जुलाई से लगने जा रहे Lockdown के दौरान इमरजेंसी सेवा को छोड़कर परिवहन सेवा, शॉपिंग मॉल, धार्मिक स्थल पूरी तरह से बंद रहेंगे। वहीं सब्जी और फलों की दुकानें सुबह और शाम को खुलेंगी लेकिन यदि किसी दुकानदारों को यह ध्यान रखना होगा कि सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरी तरह पालन हो रहा है या नहीं। राज्य की सीमाएं पूरी तरह से सील रहेंगी। बिहार की सीमा में आने जाने के लिए पास की जरूरत होगी।

इस बीच बिहार गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। पिछले दो दिनों से राज्य में रोज एक हजार से अधिक कोरोना संक्रमित राज्य में मिले हैं। हालांकि बिहार में कोरोना संक्रमितों के ठीक होने का दर अभी 71 प्रतिशत है, जो राष्ट्रीय औसत से काफी अच्छा है। वहीं, 12,364 कोरोना के मरीज ठीक होकर घर भी चले गए हैं।

राजधानी पटना (Patna) के बिहार भाजपा ऑफिस के 24 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। मंगलवार बिहार प्रदेश भाजपा अध्यक्ष संजय जायसवाल ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कुल 110 लोगों का सैम्पल लिया गया था जिसमें 24 की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

राजधानी पटना से एक बड़ी खबर आ रही है, जहां PMCH के डॉक्टर की कोरोना से इलाज के दौरान पटना एम्स में मौत हो गई है। PMCH के ENT विभाग में पदस्थापित डॉक्टर एन के सिंह कुछ दिन पहले कोरोना से संक्रमित पाए गए थे। जिसके बाद उन्हें आइसोलेट कर दिया गया था। एन के सिंह की हालत बिगड़ने के बाद डॉक्टरों ने पटना AIIMS रेफर कर दिया और वहां उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था।

बता दें कि सोमवार को बिहार सरकार में ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। वह दो दिन पहले जमालपुर विधानसभा क्षेत्र का दौरा कर लौटे थे। दूसरी ओर, स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य के सभी 38 जिलों में सोमवार को 1116 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई। इसके साथ ही, राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 17,421 हो गयी। वहीं, राज्य में एक डॉक्टर की भी संक्रमण से मौत हो गई। राज्य में कोरोना संक्रमण से किसी डाक्टर की मौत का यह पहला मामला है। एम्स, पटना के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि 54 वर्षीय डॉ अश्वनी नंदकुलियार की मौत हो गयी। वे गया में जेनरल फिजिशियन थे और निजी क्लीनिक चलाते थे। इसके साथ ही 9 संक्रमित मरीजों की मौत हो गयी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here